बेंगलुरु पुलिस को सलाम— गं’भीर बीमारी से जू’झ रहे 5 बच्चों को एक दिन का पुलिस कमिश्नर बनाया

New Delhi: किसी की इच्छा पूरी करने से बेहतर इस दुनिया में कुछ भी नहीं हो सकता और जब ये ​इच्छा प्यारे-प्यारे बच्चों को ही फिर तो कहना ही क्या। बेंगलुरु पुलिस और मेक एक विश फाउंडेशन की एक अनोखी पहल के तहत पांच बीमार बच्चों ने आज कमिश्नर के रूप में कमान संभाली।

इन पांच बच्चों का नाम रूथन कुमार, मोहम्मद साहिब, सैयद इमाद, श्रावणी और अरफत पाशा है। शहर के पुलिस कमिश्नर का पद मिलने से पहले इन नन्हे—मुन्हे बच्चों को रिवायत के मुताबिक पुलिस की तरफ से गार्ड ऑफ ऑनर और डॉग स्क्वायड भी दी गई।

इस दौरान बच्चे पुलिस के कुत्तों के साथ खुशी—खुशी बात कर रहे थे। इतना ही नहीं बं’दूक और ह’थकड़ी उन बच्चों को काफी आकर्षक लग रही थी। बच्चे अपने नए काम को लेकर बहुत ही उत्साहित थे और सुनहरे मौके का आनंद ले रहे थे।

एक बच्चे से ये पूछे जाने पर कि पुलिस अधिकारी बनने के बाद आप क्या करोग तो अरफ़थ ने कहा कि मैं बुरे लोगों को जे’ल में डालूंगा! इस पहल की और जानकारी देते हुए बेंगलुरु शहर के पुलिस कमीश्नर भास्कर राव ने कहा हमें कुछ दिन पहले मेक अ विश फाउंडेशन ने संपर्क किया गया था और पता चला कि बच्चे एक पुलिस स्टेशन का दौरा करना चाहते थे। हमने उन्हें असली बंदूकें और हथकड़ी भी दी, वो बहुत उत्साहित थे।

‘मेक-ए-विश’ फाउंडेशन से गंगाधर ने हम छोटे बच्चों के साथ काम करते हैं जो ख’तरनाक बीमारियों से जू’झ रहे हैं। बच्चों की सबसे गहरी इच्छा पुलिस अधिकारी बनने की थी। हम बहुत खुश हैं कि पु’लिस ने छोटे बच्चों की इच्छाओं को पूरा करने में आज हमारी मदद की।