लड़के को पी’ट-पी’ट कर मार डालना और उसे नारे लगाने के लिए कहना हिंदू धर्म का अपमान है: करन सिंह

New Delhi: हिंदू धर्म के अपमान के रूप में धार्मिक नारे लगाने वाले एक लड़के की मॉब लिं’चिंग पर दिग्गज कांग्रेसी नेता करन सिंह ने गुरुवार को कहा कि ऐसे कृत्यों में शामिल लोगों को खुद को हिंदू कहने में शर्म आनी चाहिए। इससे उनका इशारा झारखंड की उस घटना की ओर है जिसमें तबरेज अंसारी नामक मुस्लिम युवा व्यक्ति की चोर समझकर पि’टाई की थी और जय श्री राम के नारे लगवाए थे।

कांग्रेस सांसद शशि थरूर द्वारा लिखी गई एक पुस्तक के लोकार्पण के दौरान एक सभा को संबोधित करते हुए, सिंह ने कहा, “एक लड़के को मौत के घाट उतारना और उससे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ कहलवाना न केवल हिंदू धर्म का अपमान है, बल्कि यह महान देवताओं का अपमान है। ”

उन्होंने कहा, “क्या यह हिंदू धर्म है? क्या जिन लोगों ने उन्हें पी’ट-पी’टकर मार डाला है, उनके पास खुद को हिंदू कहने की हिम्मत है। उन्हें खुद को हिंदू कहने में शर्म आनी चाहिए। जो कोई भी इस तरह की बातें करता है, वह हिंदू धर्म का अपमान कर रहा है।”

कांग्रेस नेता सिंह ने यह भी कहा कि धर्म के रूप में हिंदू धर्म बहुआयामी है और समावेशिता में विश्वास करता है।

“हिंदू धर्म दुनिया में सबसे पुराना निरंतर धर्म है जिसके दुनिया भर में लगभग एक बिलियन अनुयायी हैं। यह बहुआयामी, बहुलवादी और समावेशी है।”

सिंह का यह बयान झारखंड पुलिस के यह कहने के एक दिन बाद आया है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट का कहना है कि मौ’त की वजह कार्डियक अरेस्ट है इसलिए आरोपियों के खिलाफ हत्या के आ’रोपों को हटा दिया गया और 11 लोगों के खिलाफ ह’त्या की बजाय गैर इरादन ह’त्या का मामला दर्ज किया गया।

बता दें कि तबरेज पर भीड़ ने 17 जून को ह’मला किया था। घटना झारखंड के सेराईकेला खरश्वान जिले की थी। लोगों ने तबरेज को चोर समझकर उसकी पि’टाई कर दी थी। इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया था जिसमें लोग उसे धमकाते हुए दिख रहे थे और जय श्री राम का नारा लगाने के लिए कह रहे थे। तबरेज ने इसके चार दिन बाद अस्पताल में दम तोड़ दिया।

चिन्मयानंद केस: दुष्क’र्म का आरोप लगाने वाली छात्रा के पिता ने कहा- होस्टल रूम से गायब हैं सबूत