बैंकों के विलय करने के विरोध में आज बैंक कर्मचारी संघ मनाएंगे काला दिवस

New Delhi: बैंकों के विलय करने के विरोध में आज बैंक कर्मचारी संघ काला दिवस मनाएंगे। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 27 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (PSB) में 12 बैंकों (Bank) में विलय करने की घोषणा की है। इस घोषणा के बाद से ही देश भर में बैंक कर्मचारियों ने अपना गुस्सा दिखाना शुरू कर दिया है। वित्त मंत्री के फैसले का कड़ा विरोध जताया जा रहा है।

PSB के कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस विलय से कुछ भला नहीं होने वाला है। न तो बैंकों में किसी भी प्रकार की स्थिरता आएगी और न ही उनकी वित्तीय स्थिति में कोई सुधार होगा। बैंक कर्मचारी संघ ने विलय को लेकर काला दिवस मनाने की घोषणा की है और साथ ही कहा है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को लेकर विरोध-प्रदर्शन होंगे।

बैंक इंप्लाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीईएफआई) के महासचिव देबाशीष बसु चौधरी ने वित्त मंत्री के फैसले को लेकर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि यह फैसला बैंकिंग प्रणाली को कमजोर करने वाला है। काला दिवस के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि हम सभी बैंक यूनियन साथ में इस फैसले का विरोध करेंगे। हमारे इस प्रदर्शन में भारत के सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के नौ संघ और उनके प्रतिनिधित्व शामिल होंगे।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों के विलय के बारे में घोषणा करते हुए कहा है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बैंकों को मजबूती प्रदान करने में यह फैसला अहम साबित होगा। भारत को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाए जाने की ओर यह एक सार्थक कदम है। इस विलय में तहत पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी), केनरा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और इंडियन बैंक जैसे बड़े बैंकों के नाम भी शामिल हैं।