22 मार्च से इंटरनेशनल पैसेंजर फ्लाइट्स पर रोक, विदेश से कोई नहीं आयेगा

New Delhi : Corona virus के कारण 4 मौतें होने के बाद सरकार ने अपनी एडवायजरी सख्त कर दी है। यात्रा से जुड़े कुछ औरप्रतिबंध लगा दिए हैं। सरकार ने गुरुवार को फैसला लिया कि 22 मार्च से देश में किसी भी इंटनरेशनल कमर्शियल पैसेंजर फ्लाइट कोआने की इजाजत नहीं दी जाएगी। यह प्रतिबंध एक हफ्ते के लिए रहेगा। सरकार ने 10 साल से कम उम्र के बच्चे और 65 साल सेज्यादा उम्र के बुजुर्गों को घर में ही रहने की हिदायत दी है।

-10 साल से कम उम्र के सभी बच्चे घर में रहें। राज्य सरकारें 65 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को घर में ही रहने की एडवायजरी जारी करें। यह एडवाजयरी मेडिकल स्टाफ, गवर्नमेंटस्टाफ, मेडिकल प्रोफेशनल्स और जनप्रतिनिधियों पर लागू नहीं होगी।

रेलवे और सिविल एविएशन छात्रों, मरीजों और दिव्यांग कैटेगरी में यात्रा करने पर दी जाने वाली रियायतें सस्पेंड मास्क और सैनिटाइजर्स के ज्यादा दाम वसूलने वालों के खिलाफ फार्मा डिपार्टमेंट और उपभोक्ता मामलों का विभाग कार्रवाई करे।

देशभर में स्कूल, कॉलेज, स्वीमिंग पूल और मॉल 31 मार्च तक बंद रखे जाएं। 31 मार्च तक लोग एकदूसरे से एक मीटर की दूरी बनाएरखें। अगर जरूरी हो तो लोग बसों, ट्रेनों और विमानों की यात्रा से बचें। प्राइवेट सेक्टर में जहां तक संभव हो, संस्थान अपनेकर्मचारियों को घर से काम करने की इजाजत दें। स्थानीय प्रशासन नेताओं और धर्मगुरुओं से बात करें ताकि वे अपनी सभाओं में ज्यादालोगों का जमावड़ा कंट्रोल कर सकें।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने गुरुवार को कहादेश में एन-95 मास्क पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। लोगों कोजागरूक करने की जरूरत है। एहतियात बरतने की आवश्यकता है। घबराने की जरूरत नहीं है। लोगों से अनुरोध करें कि वे स्वास्थ्यमंत्रालय की वेबसाइट पर जाएं और पढ़े कि क्या करें और क्या करें।

सरकार ने पहले यूरोपियन यूनियन, तुर्की और ब्रिटेन से भारत आने वाले यात्रियों की एंट्री पर 18 मार्च से रोक लगा दी थी। अब सरकार नेसभी इंटरनेशनल पैसेंजर फ्लाइट्स पर 22 मार्च से 29 मार्च के बीच रोक लगाने का फैसला लिया है। वहीं, विस्तारा ने अपनीअंतरराष्ट्रीय उड़ानें 23 मार्च से 15 अप्रैल के बीच बंद रखने का फैसला किया है।

इस बीच, विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 74 करोड़ रुपए के जिस सार्क इमजरेंसी फंड का प्रस्ताव रखा था, वहअमल में चुका है। सदस्य देश मदद की गुजारिश कर रहे हैं। मंत्रालय ने कहा कि इटली से इस हफ्ते के आखिर तक भारतीयों कोयहां ले आया जाएगा। ईरान से 201 भारतीयों को बुधवार को भारत लाया जा चुका है। वहीं, ईरान में जो कोरोना पॉजिटिव भारतीयमौजूद हैं, उन्हें अच्छा मेडिकल केयर मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifty two − 46 =