योगी के एक मंत्री ने सरकारी कर्मचारी के हाथों पहना जूता, विडियो वायरल होने पर कर बैठे खुद की तुलना राम से

New Delhi: कल यानी 21 जून को पूरी दुनिया योग दिवस मना रही थी। कल पांचवां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस था। उत्तर-प्रदेश के शाहजहाँपुर में भी योग दिवस मनाया जा रहा था। प्रदेश में भाजपा की सरकार है। सरकार के एक मंत्री हैं लक्ष्मी नारायण चौधरी। शाहजहाँपुर के योग कार्यक्रम में शामिल चौधरी ने योग ख़त्म होने के बाद एक सरकारी कर्मचारी के हाथों अपना जूता पहना और जूते का फीता बंधवाया।

आप भी देखिये वीआईपी लक्ष्मी नारायण की विडियो

योगा करने के बाद चौधरी जब उठे तो उनको जूते पहनना था। लेकिन वह झूकना नहीं चाहते थे।चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी ने मंत्री के जूते बांधे। टेक्नोलॉजी का जमाना है। हर जेब में मोबाइल है। यह बात शायद चौधरी साहब भूल गए। उनकी विडियो बन गई। विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। बाद में जब मीडिया ने इस बारे में उनसे पूछा तो उनका जबाब भी कुछ अनोखा था। खुद की तुलना भगवान राम से कर बैठे। चौधरी ने कहा कि – “कोई भाई , भतीजा या परिवार का व्यक्ति यदि जूता पहना दे तो इस बात जी तारीफ होनी चाहिए। क्योंकि हमारा देश तो वो देश जहाँ भगवान राम के खडाऊं रखके भरतजी ने 14 साल राज किया था”। मंत्री जी को याद नहीं कि अब वो वीआईपी कल्चर नहीं रहा। और अब वो दास-प्रथा भी ख़त्म हो गया। भाजपा लगातार सामाजिक समरसता की बात कर रही है लेकिन उसके मंत्री अभी भी वीआईपी कल्चर छोड़ने को तैयार नहीं हो पा रहे हैंl

इसके पहले भी लक्ष्मी नारायण विवादों में रह चुके हैं। लक्ष्मी नारायण ने भगवान हनुमान को जाट बता दिया था। लक्ष्मी नारायाण चौधरी ने हनुमान को जाट बताया था। उन्होंने कहा था कि जो दूसरों के फटे में टांग अड़ाए वह जाट ही हो सकता है”।