बॉबी का आश्रम- क्या हिंदू धर्म फिर निशाने पर है? ट्विटर ट्रेंड में पब्लिक नाराज, घृणा फैलाने के आरोप

New Delhi : ‘आश्रम ‘ वेब सीरीज के साथ प्रकाश झा ने भी ओटीटी की दुनिया में अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी है । आज इस सीरीज का ट्रेलर रिलीज़ हुआ। इसे ओटीटी प्लैटफॉर्म एमएक्स प्लेयर पर 28 अगस्त को रिलीज़ किया जायेगा । प्रकाश झा बॉलीवुड के उन चंद गंभीर निर्देशकों में से एक हैं जो हमेशा राजनीतिक पृष्ठभूमि पर फ़िल्में बनाना पसंद करते हैं । इस बार भी उन्होंने अपने पसंदीदा विषय का ही चुनाव किया है। इस वेब सीरीज के लीड एक्टर बॉबी देओल हैं जो एक ऐसे हिन्दू बाबा के किरदार में हैं जिसका हरियाणा की राजनीति में काफी दबदबा है।

अपने राजनितिक पहुँच की आड़ में ये बाबा तमाम तरह के गोरखधंधे में लिप्त हैं । बॉबी देओल का किरदार का हाव- भाव देखकर ऐसा लग रहा है मानो उनका ये रोल बाबा राम रहीम से प्रेरित है। जो भी हो इस सीरीज के बहाने प्रकाश झा ने सीधे हिन्दू समाज और ढोंगी बाबाओं पर उंगली उठायी है । बॉलीवुड में आजकल हिन्दू विरोधी विषय पर फिल्म बनाने का एक फैशन सा चल पड़ा है। मनोरंजन की आड़ में एक सम्प्रदाय विशेष पर इस तरह आघात पहुंचाना आज के सामाजिक परिवेश में बड़ा सवाल हो गया है। और वो भी लगातार हिंदू धर्म पर।

ट‍्विटर पर आश्रम इन्हीं वजहों से ट्रेंड कर गया है। सोशल मीडिया ब्लॉगिगंग साइट पर लोग सवाल उठा रहे हैं- हर धर्म में अच्छे और बुरे लोग होते हैं फिर टारगेट हमेशा हिन्दू समाज ही क्यों होता है ? इसलिये की ये समाज जरूरत से ज्यादा सहिष्णु है। इसके पहले भी सेक्रेड गेम्स, पीके, ओ माई गॉड जैसी न जाने और कितनी फ़िल्में बॉलीवुड में आयी जिसका एकमात्र उद्धेश्य एक ख़ास धर्म विशेष का मजाक उड़ाना भर था। सड़क-2 में भी हिंदू समाज ही निशाने पर है। इन फिल्मों और वेब सीरीज को देखने के बाद किसी को भी ये विश्वास हो सकता है कि समाज की सारी बुराई हिंदू धर्म में ही निहित हो गई है।

देखा जाये तो कई और भी ऐसे सम्प्रदाय हैं जिनमें बहुत बुराईयाँ हैं लेकिन आज तक किसी बॉलीवुड निर्देशकों की इतनी हिम्मत नहीं हुयी कि वे इसे वैसे ही दिखाएं जैसे एक को काफी लम्बे समय से दिखाते आ रहे हैं। लगता है बॉलीवुड उनके धर्मगुरुओं से डरकर इस विषय को छूना ही नहीं चाहता है। आखिर ऐसा भेद-भाव क्यों ? मनोरंजन के नाम पर घृणा फ़ैलाने की ये कोशिश आखिर कब तक ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixty six − sixty three =