खुल्लम खुल्ला ट्रंप कैंपेन वाह मोदी जी वाह, अशोक गहलोत ने ‘अबकी बार ट्रंप सरकार’ पर दिखाई नाराजगी

New Delhi : राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत हाउडी मोदी से नाराज दिख रहे हैं। लेकिन उनकी इस नाराजगी का मोदी जी पर कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि मोदी जी ने अमरीका में अपनी भाषण कला से 50000 लोगों का दिल जीत लिया है। उन्होंने अलग – अलग भाषा में लोगों का समबोधन किया जिससे प्रभावित होकर लोग उनकी जय – जयकार करने लगे शायद यही वजह है कि वो जहां भी जाते हैं वहां नमो – नमो होने लगता है।

मोदी के पक्ष में बोलने वाले और समर्थन करने वाले लोगों की कमी नहीं है लेकिन अशोक गहलोत का इस तरह खफा होना विपक्ष की नाराजगी को दिखाता है।

अमरीका के राष्ट्रपति और मोदी का मेल मिलाप देखते ही बनता है। इसे उनकी विदेशी पॉलिसी कह लें या चाणक्य नीति कि वो एक दूसरे की तारीफ करते नहीं थकते। मोदी विदेश में अपने भारतीय भाई – बहनों के लिए गए थे मगर वहां दोस्ती निभाते नज़र आए। आपको याद होगा कि जब मोदी पहली बार प्रधानमंत्री पद के लिए खड़े थे तो उनके स्लोगन थे अबकी बार मोदी सरकार और अच्छे दिन आने वाले हैं। कैंपेन इतना जबरदस्त था कि मोदी भारी मतों से जीते थे।

मोदी के मन में अभी भी अपनी पहली जीत इतनी बसी हुई है कि ट्रंप के लिए भी वही लाइनें दोहरा दीं, अबकी बार ट्रंप सरकार। वैसे बहुत से नेताओं के इस पर रिएक्शन आ रहे हैं मगर हाल ही में अशोक गहलोत का ये टिप्पणी करना कि ये तो ट्रंप का कैंपेन कर रहे थे तर्कसंगत है। उनके अनुसार ये फॉरेन पॉलिसी नॉन अलाइनमेंट का खंडन करता है।

बधाई : उत्तराखंड के इशान नेपाल की नेशनल टीम से खेलेंगे क्रिकेट, एमबीबीएस के हैं स्टुडेंट

इस पॉलिसी के अनुसार कोई भी देश किसी भी सुपर पावर देश के प्रभाव में नहीं आएगा। वो मुक्त है अपने विचारों के लिए, जरुरी नहीं कि वो अपने से ज्यादा शक्तिशाली देश का समर्थन ही करे।