अरुण जेटली ने वित्त मंत्रालय के अधिकारियों से अपने आवास पर की मुलाकात,वित्त सचिव रहे मौजूद

New Delhi: देश में फिर से एनडीए को बहुमत मिल गया है। एनडीए ने 352 सीटें जीतकर प्रचंड बहुमत हासिल कर लगातार दूसरी बार सत्ता में वापसी की है। अकेले भारतीय जनता पार्टी ने 303 सीटें जीतकर इतिहास रच दिया है। जीत के बाद वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार सुबह वित्त मंत्रालय के उच्च अधिकारियों के साथ मुलाकात की । इस दौरान वित्त सचिव एससी गर्ग भी मौजूद थे

बता दें कि अरुण जेटली के वित्त मंत्री रहते एनडीए की सरकार ने कई बड़े फैसले लिए थे । जिसमें नोटबंदी,जीएसटी जैसे फैसले उल्लेखनीय हैं। हालांकि इन फैसलों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका अधिक थी। नई सरकार में दोबारा अगर अरुण जेटली को वित्त मंत्रालय का कार्यभार मिलता है तो उनके सामने तमाम चुनौतियां होंगी।महंगाई  को नियंत्रित करने के अलावा,जीएसटी में सुधार भी एक चुनौती होगी।इसके अलावा अमेरिका द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों के बाद सबसे बड़ी चुनौती तेल के दामों को नियंत्रित करने की होगी।

हालांकि नई सरकार के शपथ के बाद ही पता चलेगा कि वित्त मंत्री कौन होगा लेकिन उम्मीद की जा रही है कि दोबारा अरुण जेटली ही यह जिम्मेदारी सम्भालेंगे। हालांकि खबर तो ये भी आ रही है कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में अरुण जेटली वित्त मंत्री का पद संभालने से इनकार कर सकते हैं। उनकी सेहत ठीक नहीं है। इस वजह से जेटली यह फैसला ले सकते हैं। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार ये संभावना जताई जा रही है कि अमित शाह अरुण जेटली की जगह ले सकते हैं। हालांकि तत्कालीन केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी दौड़ में शामिल है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि एक वरिष्ठ मंत्री के मुताबिक भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को वित्त मंत्रालय दिया जा सकता है। पीयूष गोयल के नाम पर भी विचार किया जा सकता है। जेटली की बीमारी के वक्त गोयल पहले भी दो बार वित्त मंत्रालय संभाल चुके हैं। रॉयटर्स के मुताबिक एक सूत्र ने कहा- यह तय है कि जेटली वित्त मंत्री का पद नहीं लेंगे। यह हो सकता है कि वो कोई ऐसी भूमिका संभालें जिसमें तनाव कम हो।

 

 

 

 

kaushlendra

सामाजिक और राजनीतिक विषयों पर लिखने में दिलचस्पी है।गांधी जी का फैन हूँ।समाज में जागरुकता लाना उद्देश्य है।पत्रकारिता मेरा प्रोफेशन है,जुनून है और प्यार भी है।
kaushlendra