सूबेदार का बेटा बना फ्लाइंग ऑफिसर, वायुसेना प्रमुख ने अपनी वर्दी से उताकर दिए विंग्स

New Delhi : जी नवीन कुमार रेड्डी हैदराबाद के पास डुंडीगल की वायुसेना अकादमी से बेहद मुश्किल ट्रेनिंग पासकर भारतीय वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर बन गए हैं। वो पल उनके लिए बहुत खास था उन्हें दुनिया की सबसे बड़ी वायुसेनाओं में से एक भारतीय वायुसेना के प्रमुख बीएस धनोआ ने अपनी वर्दी से अपने विंग्स निकालकर उन्हें पहनाए।

रेड्डी के पिता इंडियन आर्मी में सूबेदार हैं। उनके इकलौते बेटे के लिए ये एक ज़िंदगी भर याद रखने वाला पल था, जिसे वायुसेना के अपने पूरे कैरियर में वे गर्व से याद करेंगे। विंग्स किसी कैडेट को तब मिलते हैं जब वो वायुसेना में कमीशन पाता है। इसे वर्दी के सामने पहना जाता है। धनोवा सितंबर में रिटायर हो रहे हैं। उन्होंने अपने विंग्स युवा अधिकारी को पहनाते हुए कहा, मैं सितंबर में अपनी वर्दी उतार रहा हूं तो मेरे विंग्स एक युवक के लिए दे रहा हूं ताकि वो फ्लाइंग की चुनौतियों और कसौटियों पर खरा उतर सके।

फ्लाइंग ऑफिसर जी नवीन कुमार रेड्डी के पिता जी पुल्ला रेड्डी भारतीय सेना में सूबेदार हैं। उनकी हमेशा से तमन्ना थी कि उनका बेटा भारतीय सेना में अफसर बने। इसीलिए उन्होने अपने बेटे को आंध्रप्रदेश के विजियानगरम जिले के कोरूकोंडा सैनिक स्कूल में भर्ती कराया।