टैक्सी चलाकर अपनी पढ़ाई पूरी कर रही है अंजली..पिता हैं दुकानदार

अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो महिलाओं के लिए भी असंभव कुछ नहीं है। ऐसा ही उदाहरण पेश किया है हिमाचल के कांगडा नड्डी की रहने वाली अंजलि ने। अंजलि पहाड़ी इलाकों की सर्पीली सड़कों पर टैक्सी दौड़ा रही है। वह एयरपोर्ट, कांगड़ा और धर्मशाला से सवारियों ढो चुकी है।

 

एक साल से टैक्सी चला रही अंजलि को महिला दिवस पर सम्मानित किया गया। अंजलि ने टैक्सी चलाने का अपना अनुभव बताते हुए कहा कि उसने 12वीं की पढ़ाई के बाद टैक्सी चलाना शुरू किया था। मौजूदा समय में अंजलि टैक्सी चलाने के साथ-साथ होटल मैनेजमेंट का कोर्स भी कर रही है। अंजलि ने बताया कि उसके पिता दुकानदार हैं, जबकि माता गृहिणी।

उसके अनुसार अब तक उसे टैक्सी चलाने में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत पेश नहीं आई है। उसने महिलाओं को संदेश देते हुए कहा कि अगर महिलाओं में इच्छा शक्ति हो तो वह किसी भी काम को कर सकती है।