छत्तीसगढ़ मंत्रिमंडल का गठन: बघेल सरकार के 9 मंत्रियों ने ली शपथ, 6 को पहली बार मिला मौका

New Delhi: छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंत्रिमंडल का गठन रायपुर में शुरू हैं यानी छत्तीसगढ़ में शपथ ग्रहण समारोह शुरू हो गया है। इस दौरान रविंद्र चौबे, मोहम्मद अकबर, प्रेमसाय सिंह और कवासी लखमा ने मंत्री पद की शपथ ली। आपको बता दें कि रविंद्र चौबे ने कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। उन्हें राजनीतिक सफर का काफी अनुभव है और वह पूर्व में नेता प्रतिपक्ष भी रहे हैं। यही नहीं, रविंद्र चौबे ब्राह्मण वर्ग की अगुवाई करते हैं और सयुंक्त मध्य प्रदेश में वह दिग्विजय सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

इसके अलावा, प्रेमसाय सिंह ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली।  प्रेमसाय सिंह अजित जोगी सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं। आगे बढ़ते हैं और अब बात करते हैं अजित जोगी की सरकार में खाद्य मंत्री रहे मोहम्मद अकबर की, मोहम्मद अकबर ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। वह चार बार विधायक रह चुके हैं और बस्तर की कोंटा विधानसभा सीट से लगातार चौथी बार विधायक भी चुने गए हैं। वह आदिवासी समाज से आते हैं.

इनके अलावा, शिव डहरिया ने भी कैबिनेट मंत्री के पद की शपथ ली, यह कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं और डहरिया सतनामी समाज के नेता भी हैं। डौंडी लौहारा सीट से कांग्रेस विधायक अनिला भेड़िया ने भी मंत्री पद की शपथ ली। वे दूसरी बार विधायक चुनी गई है। साल 2013 में वह पहली बार विधायक चुनी गई थी। आगे बढ़े, अब बारी हैं कोरबा से जयसिंह अग्रवाल की। जयसिंह अग्रवाल ने भी मंत्री पद की शपथ ली। वे तीसरी बार विधायक चुने गए हैं।

Chhattisgarh Governor

 

इनके अलावा, अहिरवारा से विधायक गुरु रुद्र कुमार ने भी मंत्री पद की शपथ ली। रुद्र  कुमार दूसरी बार विधायक बने हैं, अनुसूचित जाति में सतनामी समाज के धर्मगुरू हैं। इसके बाद स्व. नंदकुमार पटेल के बेटे उमेश पटेल ने भी मंत्री पद की शपथ ली। उन्होंने खरसिया सीट से ओपी चौधरी को हराया था। साल 2013 में पहली बार विधायक चुने गए थे। रायगढ़ जिले की खरसिया विधानसभा सीट से पूर्व आईएएस ओपी चौधरी को करारी शिकस्त दी थी।

आपको बता दें कि प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया की उपस्थिति में नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी। वहीं विभागों का बंटवारा बाद में किया जायेगा। नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 17 दिसंबर को ही शपथ ली थी। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने बीजेपी को सत्ता से हटाकर अपना कब्जा जमाया हैं।