आम्रपाली बिल्डर के बायर्स करेंगे 14 दिसंबर को प्रदर्शन, अगर रोका तो ‘जेल भरो’ आंदोलन करेंगे शुरू

NEW DELHI: आम्रपाली बिल्डर के बायर्स 14 दिसम्बर को प्रदर्शन करेगें। जानकारी के मुताबिक, बायर्स 14 दिसंबर को संसद भवन जाएंगे। बायर्स ने चेतावनी दी हैं कि अगर प्रदर्शन करने से उन्हें अगर रोका गया तो वहीं से वह जेल भरो आंदोलन शुरू करेंगे। आपको बता दें कि आम्रपाली बिल्डर ग्रुप भी कानून शिकंजे के दायरे में है। इस मामले में कानून लड़ाई लड़ रहे खरीदारों ने सुप्रीम कोर्ट में रखा हैं। ये मामला अब कोर्ट में है।

आपको बता दें कि आम्रपाली ग्रुप के रुके हुए प्रोजेक्ट्स को पूरा करने की जिम्मेदारी नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन लिमिटेड यानी NBCC को दी गई है। आम्रपाली के अधूरे प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए एनबीसीसी ने रोडमैप तैयार कर लिया हैं। आम्रपाली के 46,000 घर खरीदारों के लिए यह राहत की खबर है। आम्रपाली के अधूरे प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए एनबीसीसी ने रोडमैप भी तैयार कर लिया हैं।

रोडमैप के तहत उन घरों को बेचा जायेगा, जिन्हें अब तक खरीदार नहीं मिला हैं। एनबीसीसी ने इसका रोडमैप सुप्रीम कोर्ट में सौंप दिया है। आपको बता दें कि आम्रपाली के 15 प्रोजेक्ट में 46,575 घर पूरे होंगे और प्रोजक्ट को पूरा करने के लिए 8,500 करोड़ रुपये की जरूरत होगी।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आम्रपाली के सीएमडी अमिल शर्मा, डायरेक्टर शिव प्रिया और अजय कुमार हिरासत में हैं। इन पर आरोप हैं कि इन्होंने खरीदारों के पैसे से नई-नई कंपनियां खोलीं और उनमें आम्रपाली के पैसे डायवर्ट किए। फिलहाल, ऑडिटर्स खरीदारों से लिए पैसों के डायवर्जन की जांच कर रहे हैं। माना जा रहा हैं कि अगले कुछ दिनों में ऑडिटर्स अपनी रिपोर्ट जल्द ही कोर्ट में पेश कर सकता हैं। जानकारी के लिए आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने निदेशकों की संपत्तियों को सील करने के आदेश दिए थे। इस पर सख्त रुख अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस में अगर धोखाधड़ी में 100 लोगों की भूमिका भी होगी तो वह भी अंदर जायेंगे।