खुशखबरी : 300 मिलियन भारतीय पिछले 14 सालों में पहुंचे गरीबी रेखा से ऊपर, नई तकनीक से जुड़े

New Delhi : नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने बताया कि 2004 और 2018 के बीच 300 मिलियन भारतीय गरीबी रेखा से ऊपर आ गए हैं। पूरे विश्व में ऐसा किसी भी देश में नहीं हुआ है। भारत को हमेशा से ही गरीब देश कहा गया है मगर अब वो अपनी इमेज बदल तरक्की की राह पर है। अमिताभ ने ये बातें माइक्रोन टेक्नॉलजी के उद्घाटन के समय बताई।

अमिताभ ने इस बात को डाटा बेस और त’र्कों से सही साबित करते हुए कहा कि आज हर भारतीय के पास बायोमैट्रिक आईडी , मोबाइल फोन और बैंक अकाउंट है। इंडिया के पास अकेले जितना मोबाइल डाटा है उतना तो यूएस और चीन का मिलाकर भी नहीं है। भारत में लोग हर तरह की तकनीक से जुड़ रहे हैं।

सारी सुविधाएं गांव गांव पहुंची।
सारी सुविधाएं गांव गांव पहुंची।

ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि भारत में डाटा का मूल्य यूके के मुकाबले एक दहाई और यूएस के मुकाबले 1\20 है। इससे पता चलता है कि माइक्रोन टैक्नॉलजी जैसी कंपनियां भारत में बढ़िया विकास करेंगी। नई तकनीक लोगों को रोजगार के साथ- साथ उनका जीवन स्तर भी सुधारेगी। माइक्रोन हैदराबाद में स्थित है और देश को नई राह पर ले जाने के लिए एकदम तैयार।

हरमनप्रीत ने तोड़ा धोनी और कोहली का रिकॉर्ड और बन गईं 100 T20 खेलने वाली पहली भारतीय क्रिकेटर

वहीं अगर डिजिटल पेमेंट्स की बात करें तो सरकार की 600 स्कीमें ऐसी हैं जिनसे डायरेक्ट ट्रांसफर कर आसानी से पैसों का लेन देन किया जा सकता है। लोग अब घंटों लाइन में खड़े होकर बैंकों  के च’क्कर नहीं लगाते। लोग अब धीरे – धीरे डिजिटल होने का आनंद उठा रहे हैं।