कश्मीर के इतिहास को तोड़ मरोड़ कर लोगों को किया गया गुमराह : अमित शाह

NEW DELHI : गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को दावा किया है कि कश्मीर के इतिहास से छेड़छाड़ की गई है। जिसमे कई तथ्यों को गलत तरीके से पेश कर लोगों को गुमराह किया गया है। अनुच्छेद 370 पर अमित शाह ने कहा आज भी लोगों के बीच अनुच्छेद 370 और कश्मीर से जुड़ी कई अफवाहें हैं। जिन्हें स्पष्ट करना बहुत महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा लोगों के सामने इसी विकृत इतिहास को पेश किया गया। जिसके कारण 1947 से कश्मीर हमेशा चर्चा और विवाद का विषय बना रहा है। अमित शाह ने कहा यह छेड़छाड़ इसलिए हुई क्योंकि इतिहास लिखने की जिम्मेदारी उन्हीं लोगों के हाथ में थी ,जिन्होंने गलतियाँ की थी। इसलिए परिणामस्वरूप सच्चे तथ्य छिपे थे। इसके अलावा उन्होंने कहा अब समय आ गया है की सही इतिहास को लिखा जाए और उसे लोगों के सामने प्रस्तुत किया जाए।

इसके अलावा अमित शाह ने कश्मीरी संस्कृति नष्ट होने पर मनावधिकार कार्यकर्ताओं पर भी निशाना साधा है। उन्होंने कहा जब कश्मीर से सूफी संतो की संस्कृति कोण नष्ट किया जा रहा था तब ये मानवधिकार के चैंपियन कहाँ थे। जब कश्मीर से कश्मीरी पंडितों को बाहर निकाला जा रहा था तब मानवाधिकार के चैंपियन कहाँ थे। उन्होंने कहा अनुच्छेद 370 के कारण कश्मीेर को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। इसीलिए मोदी सरकार ने इससे ख़त्म करने का फैसला लिया।

बता दें अमित शाह पहले भी कह चुके हैं कि धारा 370 के कारण ही देश में आतंकवाद आया। इसके लागू होने के बाद ही कश्मीर से कश्मीरी पंडितों, सूफी-संतों को निकाल दिया गया, आतंकवाद चरम पर पहुंचा गया। इसके कारण ही कश्मीर में अभी तक लगभग 40000 लोग मारे गए इसलिए अनुच्छेद 370 को खत्म करना सरकार ने उचित समझा।