फेसबुक ने मुकेश अंबानी के नेतृव वाले रिलायंस इंडस्ट्रीज समूह की कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड में 43,574 करोड़ रुपये निवेश का करार किया है।

अंबानी बोले – फेसबुक के साथ 3 करोड़ छोटे किराना दुकानों को डिजिटल लेन-देन में सक्षम बनायेंगे

New Delhi : रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड, जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स लिमिटेड और फेसबुक ने बुधवार को घोषणा की कि उनके बीच एक समझौता हुआ है। इस समझौते के तहत फेसबुक जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स में 43,574 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। फेसबुक के इस निवेश से जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स का प्री-मनी एंटरप्राइज वैल्‍यू 4.62 लाख करोड़ रुपये आंका जा रहा है। फेसबुक इस निवेश के जरिये जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स में 9.9 फीसदी हिस्‍सेदारी खरीद रही है।

फेसबुक और रिलायंस जियो के बीच अब तक का सबसे बड़ा करार

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर Mukesh Ambani ने कहा – Jio के विश्व स्तरीय डिजिटल कनेक्टिविटी प्लेटफॉर्म और भारतीय लोगों के साथ फेसबुक के करीबी संबंधों की साझा ताकत के दम पर हम, आप में से हर एक के लिए नए और इनोवेटिव सॉल्यूशन लाएंगे। निकट भविष्य में, JioMart जो कि Jio का नया डिजिटल कॉमर्स प्लेटफॉर्म है और वॉट्सऐप मिलकर, लगभग 3 करोड़ छोटी भारतीय किराना दुकानों को डिजिटल लेन-देन करने में सक्षम बनायेंगे। यह दुकानदार अपने ग्राहकों से डिजिटल लेन-देन कर पाएंगे। इसका मतलब है कि आप सभी स्थानीय दुकानों से रोजाना के सामानों का ऑर्डर और उसकी डिलीवरी ले सकेंगे।

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने कहा कि इस निवेश के साथ ही जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स, रिलायंस रिटेल और फेसबुक के वॉट्सऐप के बीच कमर्शियल पार्टनरशिप एग्रीमेंट हुआ है। इसके तहत जियोमार्ट प्‍लेटफॉर्म पर रिलायंस रिटेल के न्‍यू कॉमर्स बिजनेस को वॉट्सऐप के जरिये बढ़ाने में बड़ी मदद मिलेगी। साथ ही, वॉट्सऐप पर छोटे कारोबारियों को भी मदद मिलेगी। इससे छोटे किराना दुकानदारों को भी अपने व्यवसायों को विकसित करने का मौका मिलेगा। साथ ही डिजिटल टेक्नोलॉजी का उपयोग करके वे रोजगार के नए अवसर भी पैदा कर सकते हैं।
इस सौदे को लेकर रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने कहा कि किसी प्रौद्योगिकी कंपनी में अल्‍प हिस्‍सेदारी के लिए किया जाने वाला ये विश्‍व का सबसे बड़ा निवेश है, और भारत के टेक्‍नोलॉजी सेक्‍टर का सबसे बड़ा प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश है। फेसबुक के इस निवेश के साथ ही मूल्‍य के हिसाब से जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स बाजार पूंजीकरण के लिहाज से कमर्शियल सर्विसेज शुरू करने के मात्र साढ़े तीन साल की अवधि में शीर्ष पांच सूचीबद्ध कंपनियों में शामिल हो गई है।
फेसबुक के साथ साझेदारी को लेकर मुकेश अंबानी ने कहा – 2016 में जब रिलायंस ने जियो लॉन्‍च किया था तो इसका उद्देश्‍य था कि भारत के प्रत्‍येक व्‍यक्ति की जीवन गुणवत्‍ता में सुधार हो भारत को विश्‍व की अग्रणी डिजिटल सोसायटी में शामिल किया जाए। रिलायंस की तरफ से हम सभी एक दीर्घावधि के साझेदार के तौर पर फेसबुक का स्‍वागत करते हैं। यह साझेदारी भारत के डिजिटल इकोसिस्‍टम में बड़ा बदलाव लाएगी और इससे सभी भारतीय को लाभ होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

44 − = forty one