धनोआ ने कहा-26/11 के बाद पाकिस्तान पर ह’मला करना चाहती है वायुसेना,UPA ने नहीं दी इजाजत

New Delhi : पूर्व वायुसेनाध्यक्ष बीएस धनोआ का कहना है कि सरकार ने 26/11 मुंबई ह’मलों के बाद पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक (हवाई ह’मला) करने के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। शुक्रवार को उन्होंने यह बात वीजेटीआई के सालाना महोत्सव टेक्नोवांजा में छात्रों के एक समूह को संबोधित करते हुए कहीं।

धनोआ 31 दिसंबर, 2016 से लेकर 30 सितंबर, 2019 तक भारतीय वायुसेना के अध्यक्ष रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘ह’म जानते थे कि पाकिस्तान में आतंकी शिविर किस जगह पर हैं और ह’म तैयार थे। लेकिन स्ट्राइक को अंजाम देना या नहीं देना राजनीतिक निर्णय था।’ बता दें कि धनोआ के बाद वायुसेना की कमान अब एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया के हाथ में है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा कि दिसंबर 2001 में संसद पर हुए ह’मले के बाद भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक के जरिए पाकिस्तान के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई का प्रस्ताव दिया था। जिसे स्वीकार नहीं किया गया। पाकिस्तान अपने लोगों में भारत से ख’तरे का डर बनाए रखता है।

पूर्व एयर चीफ मार्शल ने कहा कि यदि शांति आ जाती को पाकिस्तान अपने कई विशेषाधिकारों को खो देता। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान जानबूझकर कश्मीर के मुद्दे को गर्म रखता है। उनके अनुसार पाकिस्तान दुष्प्रचार की ल’ड़ाई में शामिल है और वह ह’मले करना जारी रखेगा। धनोआ ने कहा, ‘वायुसेना में छोटे, तेज यु’द्ध ल’ड़ने की क्षमता है और भविष्य का कोई भी यु’द्ध भूमि, वायु, समुद्र और अंतरिक्ष पर होगा।’

धनोआ के अनुसार भारत के सामने एक बड़ी चुनौती यह है कि उसके पड़ोस में दो परमाणु-सशस्त्र राष्ट्र हैं। उन्होंने बेशक किसी देश का नाम नहीं लिया लेकिन उनका मतलब चीन और पाकिस्तान से था। बाद में सवाल-जवाब सत्र के दौरान धनोआ ने कहा कि भारत की परमाणु क्षमता जमीन पर, समुद्र और हवा में है। वहीं चीन ने एक आधुनिक वायुसेना विकसित की है जो गुणवत्ता पर निर्भर करती है।