वायुसेना, नौसेना, सेना NDRF सभी रेस्क्यू में शामिल, लेकिन 20 दिन बाद भी मजदूरों का कुछ पता नहीं

New Delhi: मेघालय खदान हादसे के 20 दिन बाद भी मजदूरों का कुछ पता नहीं चल सका है। वायुसेना, नौसेना, सेना और NDRF सभी रेस्क्यू में शामिल हैं लेकिन किसी के हाथ भी सफलता नहीं लग सकी है। वहीं पिछले दिनों मजदूरों के 3 हेलमेट मिले थे जिसके बाद आशंका जताई जाने लगी थी।

मेघालय खदान हादसे को 20 दिन से भी अधिक हो गया है लेकिन अभी तक सेना, नौसेना और NDRF के जवान रेस्क्यू में सफल नहीं हुए हैं। वहीं अब इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने मेघालय सरकार को फटकार लगाई है और कहा कि, हम आपके काम से संतुष्ट नहीं हैं।

सेना, नौसेना, NDRF सभी अभी तक नाकाम

Meghalaya coal mine

बता दें कि, इस रेस्क्यू में वायुसेना, सेना, नौसेना और NDRF के जवान लगातर रेस्क्यू में लगे हुए हैं। हाई पंप की मदद से मजदूरों को बाहर निकालाने का काम जारी है। वहीं अभी भी इन लोगों को रेस्क्यू करने के लिए सभी एजेंसियां लगी हुई हैं। लेकिन खदान में पानी अधिक भर जाने की वजह से उनको बाहर नहीं निकाला जा सका है। मेघालय की एक कोयला खदान में पिछले कई दिनों से 13 मजदुर फंसे हुए हैं जिनको निकालने के लिए NDRF, सेना और नौसेना के जवान लगे हैं। लेकिन 20 दिन से अधिक हो जाने के बाद भी उनका कुछ पता नहीं चल सका है।

खदान में नदी का पानी अधिक भरने से रेस्क्यू में परेशानी

कोयला खदान में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए रेस्क्यू जारी है। वहीं अब NDRF के साथ कई और एजेंसियां शामिल हो गई हैं और उन्होंने मोर्चा संभाला है। लेकिन अभी भी एनडीआरएफ की टीम उनको बचा पाने में सफल नहीं हुई है। दरअसल खदान 300 फीट गहरी है और उसमे नदी का पानी भर गया है जिसकी वजह से जवान पानी के अंदर जा नहीं पा रहे हैं। खदान के अंदर मजदूरों को बचाने के लिए चलाये जा रहे रेस्क्यू में 18वें दिन जवानों को तीन हेलमेट बरामद हुए थे।  खदान के अंदर 70 फीट तक पानी भर गया है और इस वजह से उसमे जाना बेहद मुश्किल है।

गहरी टनल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे मजदूर

300 फीट गहरी खाई में फंसे मदजूरों को 20 दिन से ज्यादा हो गया है, लेकिन अभी भी उनको बाहर नहीं निकाला जा सका है। वहीं मेघालय में फंसे मजदूरों के लिए कोई ख़ास इंतजाम नहीं किये जा सके हैं। वहीं खदान में नदी का पानी भर जाने से वह बाहर नहीं आ पा रहे हैं। राज्‍य सरकार की तरफ से पानी निकालने के लिए पंप का इंतजाम न होने की वजह से भी फंसे लोगों को निकालने में दिक्‍कत आ रही है।