अहमदाबाद ट्रैफिक पुलिस की पहल ‘पुलिस पाठशाला’, फुटपाथ के बच्चों का संवार रही भविष्य

New Delhi: शिक्षा के जरिए फुटपाथ के बच्चों को गरीबी से निकालने के लिए अहमदाबाद ट्रैफिक पुलिस अपने प्रयासों में जुटी है। गुजरात में अहमदाबाद सिटी ट्रैफिक पुलिस की इस पहल की चारों ओर सराहना की जा रही है। अहमदाबाद सिटी ट्रैफिक पुलिस ने अपने प्रोजेक्ट ‘पुलिस पाठशाला’ के तहत बच्चों के उज्जवल भविष्य को आकार देने में अपनी सार्थक भूमिका निभाए हुए हैं।

‘पुलिस पाठशाला’ के तहत फुटपाथों पर रहने वाले बच्चों को मुफ्त शिक्षा दी जा रही है। शहर भर के तीन केंद्रों में लगभग 150-200 बच्चे शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। इस संदर्भ में अहमदाबाद ट्रैफिक सहायक पुलिस आयुक्त अकिंत पटेल ने इसे बदलाव की पहली सीढ़ी का नाम दिया है।

सहायक पुलिस आयुक्त ने इस प्रोजेक्ट के बारे में बताया कि हमने यह प्रोजेक्ट 1.5 साल पहले शुरू किया था। फुटपाथों पर रहने वाले बच्चे अक्सर अपराध में शामिल हो जाते हैं। उन्हें इस दलदल से निकालने के लिए ही इन प्रयासों पर काम करने के बारे में सोचा गया। यह पूरी टीम की मेहनत का ही फल है कि आज हम इतनी बड़ी संख्या में अपने सींचे हुए सपने को आगे लेकर जा रहे हैं। बदहाली के पत्थर को हटाने का रास्ता शिक्षा की ज्योती से होकर गुजरता है।

अकिंत पटेल ने आगे कहा कि हमने उन्हें शिक्षित करने और उनकी जिंदगी में बदलाव लाने के बारे में सोचते हुए इस फैसले पर सहमित दिखाई। उन्होंने कहा कि बच्चों को बुनियादी ज्ञान प्राप्त हो जाने के बाद उन्हें नियमित स्कूलों में दाखिला दिया जाएगा। अहमदाबाद ट्रैफिक पुलिस की यह योजना वाकई में काबिले तारीफ है। फुटपाथ के इन बच्चों को मुख्यधारा में वापस लाने के लिए यह प्रयास सटीक साबित हो रहा है। साथ ही समाज में पुलिस की छवि को एक नई पहचान दिलाने में यह योजना मदद कर रही है।