लेडी सिंघम पर कार्रवाई- पहले मंत्री के बेटे की “गिरफ्तारी-जमानत” फिर सुनीता का सूरत से ट्रांसफर

New Delhi : गुजरात में एक महिला कॉन्स्टेबल को गुजरात सरकार में राज्य मंत्री कुमार कनानी के बेटे और उसके दो दोस्तों को सूरत में लॉकडाउन और रात्रि कर्फ्यू के उल्लंघन में रोकने के लिये ट्रांसफर कर दिया गया है। मंत्री के बेटे के दोस्त कर्फ्यू के समय गाड़ी चला रहे थे और वो भी बिना मास्क पहने जिसके चलते महिला पुलिसकर्मी ने उन्हें रोका था। अब इस मामले ने तूल पकड़ लिया है। NDTV खबर की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि राजनीतिक दबाव में महिला पुलिसकर्मी का तबादला किया गया है। मामले में जांच के आदेश दे दिये गये हैं। वहीं अहमदाबाद मिरर के मुताबिक सुनीता यादव छुट्टी पर चली गई है।

इससे पहले गुजरात सरकार में राज्य मंत्री कुमार कनानी के बेटे और उसके दो दोस्तों को सूरत में लॉकडाउन और रात्रि कर्फ्यू के उल्लंघन के लिये रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया। इन लोगों ने ड्यूटी पर तैनात महिला कॉन्स्टेबल से बदसलूकी की थी। उनको हड़काया था। जिसका ऑडियो और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। हालांकि, बाद में मंत्री के बेटे समेत तीनों लोगों को जमानत पर रिहा कर दिया गया।
सूरत के वराछा में शुक्रवार रात स्वास्थ्य राज्यमंत्री कुमार कानाणी के बेटे प्रकाश और कॉन्स्टेबल सुनीता यादव के बीच बहस हो गई। इसका ऑडियो-वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस से लेकर राजनीतिक गलियारे तक में शनिवार को यह मुद्दा छाया रहा। दरअसल, विवाद की शुरुआत कार में सवार पांच युवकों के कर्फ्यू उल्लंघन, मास्क नहीं पहनने के मामले में महिला कॉन्स्टेबल द्वारा रोके जाने और उनके समर्थन में राज्यमंत्री प्रकाश कानाणी के बेटे के मौके पर आने के बाद शुरू हुआ।
करीब डेढ़ घंटे तक चले इस ड्रामे का ऑडियो वायरल हुई। इस दौरान सुनाई दे रही कहासुनी प्रकाश और कॉन्स्टेबल सुनीता की बताई जा रही है। प्रकाश ने सुनीता को 365 दिन यहीं खड़े रहने की ड्यूटी लगवा देने की बात कही। इस पर सुनीता भड़क गईं और बोलीं- पुलिस की यह वर्दी तुम्हारे बाप की गुलामी करने के लिये नहीं पहनी है। औकात हो तो करवा देना मेरा ट्रांसफर गांधीनगर।

बताया जा रहा है कि वराछा थाने के पीआई और एसीपी से फोन पर बात करने के बाद कॉन्स्टेबल इस्तीफा देने की पेशकश करते हुये घर लौट आई है। हालांकि, इस्तीफे की पुष्टि नहीं हुई है। कमिश्नर आरबी ब्रह्मभट्ट ने डिविजन के एसीपी सी.के. पटेल को मामले की जांच का आदेश दे दिया है। सुनीता तीन साल पहले पुलिस में भर्ती हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

forty six − 41 =