AAP का बयान,शर्मिंदी की बात! सज्जन कुमार को निकालने की बजाय HC के फैसले को चुनौती दे रही कांग्रेस

NEW DELHI: 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में आज हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने 6 सिखों की हत्या करने वाले आरोपी सज्जन कुमार को दोषी करार दिया और उम्र कैद की सजा सुनाई। इस फैसले के बाद कांग्रेस पर सवाल उठने लगे। इस बीच कमलनाथ के शपथ ग्रहण को लेकर भी विपक्ष ने निशाना साधा। वैसे तो शपथग्रहण में आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आप नेता संजय सिंह को शामिल होता था, लेकिन फैसला आने के बाद उन्होंने अपना ये प्रोग्राम कैंसल कर दिया।

आम आदमी पार्टी के नेता जरनैल सिंह ने कहा कि हमें ये जानकारी मिली हैं कि कांग्रेस की तरफ से सलमान खुर्शीद सज्जन कुमार को मिली सजा के खिलाफ अपील करेंगे। ये बड़े शर्म की बात हैं कि सज्जन कुमार को पार्टी से निकालने की जगह वो उनको मिली सजा के खिलाफ अपील करने की बात कर रहे हैं। वहीं हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने बयान दिया।

हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा करना चाहती हूं कि उन्होंने शिरोमणि अकाली दल के अनुरोध पर 1984 के नरसंहार की जांच के लिए साल 2015 में एसआईटी का गठन किया। यह ऐतिहासिक फैसला हैं। आखिरकार इंसाफ का पहिया चल ही पड़ा हैं।

sajjan kumar conviction

वहीं फैसला आने का बाद बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधा। संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। संबित पात्रा ने कहा कि कमलनाथ जी का नाम एफिडेविट और सबूतों के साथ-साथ नानावती आयोग को दी गई रिपोर्ट में भी आया था। एक ऐसे शख्स को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया हैं, जो सिख-विरोधी दंगों में शामिल रहा हैं। राहुल गांधी को उन्हें पार्टी से निकाल देना चाहिए।

इसके अलावा, वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि दिल्ली हाई कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है। मेरे जैसे लोग जिन्होंने इसको देखा है, उनके लिए शायद यह सबसे बड़ा नरसंहार है। उस समय की कांग्रेस सरकार ने लगातार मामले को दबाने की कोशिश की। सज्जन कुमार सिख-विरोधी दंगों का प्रतीक थे। अब हमें उम्मीद है कि अदालतें सिख-विरोधी दंगों के सभी मामलों के जल्द निपटारे के लिए काम करेंगी। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बारे में केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सिख समुदाय का मज़बूती से मानना है कि वह इसमें शामिल रहे थे।