UP : कानपुर में काम करने वाले एक व्यक्ति को बच्चा चो’री के श’क में बं’दी बनाकर पी’टा, जांच जारी

New Delhi : उत्तर प्रदेश के इटावा में बच्चा चो’री के शक में एक व्यक्ति को बं’दी बनाकर बु’री तरह से पी’टा गया। इटावा के एसएसपी ने बताया कि “वह राजस्थान का रहने वाला है और कानपुर में काम करता है। उन्होंने कहा हमारी टीमें राजस्थान और कानपुर के लिए रवाना हो रही हैं। अगर उसकी पि’टाई की गई, तो इसकी जांच की जाएगी।”

स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि उसने 14-15 साल के एक बच्चे को प’कड़ने की कोशिश की थी। बच्चे ने जब चिल्लाना शुरू किया तो आस -पास के लोग मौके पर पहुंचे और उसे बच्चे को छु’ड़ाया। इसके बाद उसे बं’दी बना लिया और पि’टाई की गई। देश में मॉब लिं’चिंग (Mob Lynching ) की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। हर रोज कहीं न कहीं, कोई भी’ड़ का शिकार हो ही जाता है। इसके पहले  पश्चिम बंगाल  के जलपाईगुड़ी से एक घटना सामने आई जिसमें कुछ लोगों ने मिलकर एक किन्नर (Transgender) को मा’र डाला। लोगों को उस पर शक था कि वह बच्चा चो’री करता है।

अंधे भिखारी पति -पत्नी से जबरदस्ती बुलवाया जा रहा जय श्री राम, आप नेता संजय सिंह ने शेयर किया वीडियो

बता दें कि यह कोई नई घटना नहीं है। इसके पहले भी कई कई मामले सामने आ चुके हैं। आए दिन लोगों को ‘जय श्री राम’ न बोलने के कारण पीट दिया जाता है। यहां तक कि भीड़ ने अंधे भिखारी दंपत्ति को भी जबरदस्ती ‘जय श्री राम’ बुलवाया और न बोलने पर पि’टाई कर दी। हाल ही में बिहार में तीन मवेशियों को जानवर चोरी के शक में पी’ट -पी’टकर मा’र डाला गया।ऐसी अनेक घटनाएं हैं जिन्हें उंगलियों पर गिनना मुश्किल है। फिर भी प्रशासन चुप क्यों है। राज्य की सरकारें मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर चुप्पी क्यों साध लेती हैं। वह कोई कठोर कानून क्यों नहीं बनाती। इस बारे में जरूर सोचना चाहिए।