14 प्रतिशत महिलाएं संसद में उठाएंगी देश की आधी आबादी की आवाज

New Delhi: देश में हुए लोकसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं। नरेन्द्र मोदी की आगुवाई वाली NDA  को 350 से ज्यादा सीट मिली हैं। इस लोकसभा चुनाव में सबसे ज्यादा 78  महिलाओं ने चुनाव जीते हैं।  नवनिर्वाचित 17 वीं लोकसभा में 78 महिला सांसद हैं, जो आजादी के बाद सबसे ज्यादा हैं। ये 14 प्रतिशत महिलाएं देश की 49 प्रतिशत महिलाओं का प्रतिनिधित्व संसद में करेगीं। पीआरएस रिपोर्ट के अनुसार,  इस बार 300 सांसद ऐसे चुन कर आए है, जो पहली बार संसद पहुंचेगें और 197 सांसद ऐसे हैं, जो लगातार दूसरी बार चुने गए हैं।

 

इस लोकसभा चुनाव में 716 महिला उम्मीदवार मैदान में थीं। चुनाव ल’ड़ने वाली 716 महिला उम्मीदवारों में से 78 निर्वाचित हुई हैं, जिनका प्रतिशत निकाला जाए तो वह 14 प्रतिशत होगा।  2014 लोकसभा चुनाव में 62 महिला ही जीत कर संसद पहुंची थीं। 2014 की तुलना में  इस बार 16 अधिक महिला सांसद, संसद पहुंचेगीं।

संसद में इस बार 10 महिलाएं उत्‍तर प्रदेश से चुनी गई हैं। इनमें से भाजपा के टिकट पर आठ महिलाओं ने चुनाव जीता है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्‍तर प्रदेश से 13 महिला सांसद चुनी गई थीं। पूर्वांचल से छह जबकि अवध क्षेत्र से दो महिलाओं ने चुनाव जीता है। बुंदेलखंड से एक भी महिला नहीं सांसद नहीं चुनी गई है। इन सबमें स्‍मृति इरानी की जीत बेहद खास है। स्‍मृति ने अमेठी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी को शिकस्‍त दी। महराष्ट्र से आठ, बंगाल से 9 और बिहार से तीन महिलाएं  इस संसद जाएंगी।  भारत में 49 प्रतिशत महिलाओं का प्रतिनिधित्व 14 प्रतिशत महिला सांसद, संसद में करेगीं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 2019 के लोकसभा चुनावों में 303 सीटें जीतने के बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी। कांग्रेस ने 52 सीटें जीतीं, जबकि द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) 23 सीटों के साथ तीसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी। 542 संसदीय क्षेत्रों में लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई के बीच सात चरणों में हुए थे। 23 मई को परिणाम घोषित किए गए।