अमेरिका में 24 घंटे में 518 मौतें, ट्रम्प बोले – 2 हफ्ते में कोरोना से मौतों का आंकड़ा चरम पर पहुंचेगा

New Delhi : अमेरिका में Corona Virus से बीते 24 घंटे में 518 लोगों की मौत हो गई। राष्ट्रपति Donald Trump ने रविवार को व्हाइट हाउस में ब्रीफिंग के दौरान कहा कि अगले दो हफ्ते में मौतों का आंकड़ा अपने चरम पर पहुंच जाएगा। वहीं, सोशल डिस्टेंसिंग की तारीख भी 30 अप्रैल तक बढ़ा दी गई है। व्हाइट हाउस ने देश में 2 लाख लोगों के संक्रमित होने का अनुमान जताया है।

ट्रम्प के मुताबिक – 12 अप्रैल को ईस्टर है। ईसाइयों का यह बड़ा फेस्टिवल है। तब तक अमेरिका में मरने वालों की संख्या पीक पर पहुंच चुकी होगी। जब तक हम बीमारी से जीत नहीं जाते, तब तक इससे खराब स्थिति नहीं होगी। मुझे उम्मीद है कि इसमें जल्दी ही गिरावट आएगी।
ट्रम्प ने कहा कि सबसे जरूरी यही है कि हर व्यक्ति गाइडलाइंस का पालन करे। उम्मीद है कि हम जून तक रिकवरी कर लेंगे। ट्रम्प ने पहले ईस्टर तक हालात सामान्य होने की बात कही थी। राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि संक्रमण को फैलने से रोकना जरूरी है, इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग की समयसीमा 30 अप्रैल तक बढ़ाई जाएगी। आप बेहतर कर सकते हैं, इससे हम कोरोना की भयावहता से तेजी से निपट सकेंगे। अमेरिका में कोरोना के 1 लाख 42 हजार से ज्यादा मामले आ चुके हैं, 2400 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।
ग्रामीण इलाकों में कोरोनो महामारी शहरों के मुकाबले ज्यादा कहर बरपा सकती है। यहां पर्याप्त संख्या में डॉक्टर और अस्पताल नहीं हैं। महामारी का केंद्र न्यूयॉर्क शहर है। यहीं सबसे ज्यादा संक्रमित हैं। इसे अलावा अरकंसास, मिसिसिपी, जॉर्जिया और साउथ कैरोलिना जैसे मिडवेस्ट और साउथ के ग्रामीण अंचलों में भी कोरोना संक्रमण फैलने के संकेत मिले हैं। कोडिक इलाके के नेटिव एसोसिएशन के डायरेक्टर एलिस प्लेटनिकॉफ ने कहा – कुछ क्षेत्रों में हमारी क्षमता सीमित होगी, न केवल उपकरणों के मामले में बल्कि कर्मचारियों में भी। जब कोरोनावायरस से संक्रमण के मामले बढ़ते हैं, तब हमारी चिंता बढ़ना लाजमी है।
शुक्रवार को अलास्का में 85 मामले सामने आए और यहां कोरोना से पहली मौत भी हुई। विशेषज्ञों के मुताबिक, राज्य की 7.37 लाख जनसंख्या का 40 से 70% हिस्सा कोरोनावायरस की चपेट में आ सकता है। प्राथमिक रिपोर्ट के आधार पर 20% आबादी यानी 59 हजार लोगों के लिए चिकित्सा सुविधा की जरूरत होगी। अलास्का में 1500 बेड वाला जनरल हॉस्पिटल है। कुछ स्थानों पर नया मेडिकल सैटअप तैयार करने में दूसरी जगहों के मुकाबले वक्त ज्यादा लग सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

six + 3 =