सुशांत की याद में भूमि ने 550 जरूरतमंद परिवारों को भोजन कराना शुरू किया, कहा- तुम स्टार ही रहोगे

New Delhi : फिल्म सोनचिरैया में सुशांत की को-स्टार रहीं भूमि पेडणेकर ने सुशांत की याद में एक नेक काम किया है। भूमि ने अभिषेक कपूर की पत्नी प्रज्ञा के एक साथ द अर्थ फाउंडेशन के साथ मिलकर 550 जरूरतमंद परिवारों को खाना पहुंचाने में मदद की। इसकी जानकारी उन्होंने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट के जरिये दी।
सुशांत की फोटो के साथ भूमि ने लिखा- मैंने ‘एक साथ फाउंडेशन’ के जरिए अपने प्यारे दोस्त की याद में 550 गरीब परिवारों को भोजन कराने का संकल्प लिया है। आइए हम साथ मिलकर जरूरतमंद लोगों के प्रति दया और प्यार दिखाएं, क्योंकि फिलहाल उन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।

View this post on Instagram

🙏 . . . @eksaathfoundation

A post shared by Bhumi✨ (@bhumipednekar) on

एक इमोशनल पोस्ट में भूमि ने लिखा था- तुम्हारी आत्मा को शांति मिले दोस्त। हैरान हूं और दुखी भी। अभी तक यकीन नहीं कि तुम नहीं हो। मैं सितारों और हमारी अंतहीन बातों को एकटक देख रही हूं। तुम वहां बाकियों के साथ जगमगा रहे हो। क्योंकि तुम स्टार हो और हमेशा रहोगे मेरे प्रिय सुशांत।
इधर रविवार 28 जून को नाना पाटेकर सुशांत के पिता से मिलने पटना पहुंचे थे और अब टीवी एक्ट्रेस रतन राजपूत भी सुशांत के पिता से मिलने उनके पटना स्थित घर पहुंचीं।
रतन ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो जारी कर सुशांत के पिता से मुलाकात का अनुभव शेयर किया। उन्होंने कहा- मैं सुशांत की खबर सुनकर बहुत डिस्टर्ब थी और बात नहीं करना चाहती थी। लेकिन हाल ही में मैं उनके पिता और परिवार से मिली। मैं थोड़ी घबराई हुई थी कि मैं उनसे मिलकर क्या कहूंगी, मैं बहुत नर्वस थी लेकिन जब मैं उनके परिवार से मिली तो सबकुछ बहुत अलग ही रहा।

रतन ने आगे कहा- मेरी नर्वसनेस गायब हो गई और सुशांत के पिता से मिलकर मुझे शक्ति मिल गई। ऐसी स्थिति में जब कोई अपने जवान बेटे को खो दे तो वो इंसान क्या बात करेगा। लेकिन सुशांत के पिता बिलकुल अलग ही इंसान हैं। वह स्टेबल और शांत हैं। वह ज्यादा कुछ नहीं कहते लेकिन खामोश रहकर भी काफी कुछ कह जाते हैं। उनकी एनर्जी बिलकुल अलग है। मैं सुशांत की बड़ी बहन से भी मिली। उनसे मिलकर मुझे शक्ति मिली। मुझे ये समझ आया कि इतने बड़े झटके के बाद भी ज़िंदगी कैसे चलती रहती है और आप आगे कैसे बढ़ सकते हो। इस मुलाकात के बाद मेरे अंदर कुछ अलग ही ऊर्जा है। मैं अब अपनी नॉर्मल लाइफ में बहुत सुकून महसूस कर रही हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

30 − = 25