चीनी सुअरों में मिला फ्लू का नया वायरस G4EAH1N1, ये कोरोना जैसी महामारी ला सकता है

New Delhi : चीनी वैज्ञानिकों ने सूअरों में फ्लू के वायरस का वो स्ट्रेन खोजा है, जो महामारी ला सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि फ्लू वायरस का एक ऐसा स्ट्रेन हाल ही में सुअर में पाया गया है, जो इंसानों को संक्रमित कर सकता है। यह अपना रूप बदलकर (म्यूटेट) एक इंसान से दूसरे इंसान में पहुंचकर वैश्विक महामारी ला सकता है।
वायरस का नाम G4 EA H1N1 है। इस पर रिसर्च करने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि यह इमरजेंसी जैसी समस्या नहीं है, लेकिन इसमें ऐसे कई लक्षण दिखे है जो बताते हैं कि यह इंसानों को संक्रमित कर सकता है, इसलिए इस पर लगातार नजर बनाए रखने की जरूरत है। प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेस के मुताबिक, यह नया स्ट्रेन है, इसलिए हो सकता है लोगों में इससे लड़ने की क्षमता कम या न हो। इससे बचने के लिए सुअरों पर नजर रखना जरूरी है।

कोरोनावायरस से पहले दुनिया में अंतिम बार फ्लू महामारी 2009 में आई थी और उस समय इसे स्‍वाइन फ्लू कहा गया था। मैक्सिको से शुरू हुआ स्‍वाइन फ्लू उतना घातक नहीं था, जितना कि अनुमान लगाया गया था। इस बार कोरोनावायरस के कारण 1 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। ऐसी स्थिति में अगर नया वायरस फैलता है, तो इसे रोकना बहुत मुश्किल होगा।
वैक्सीन के जरिए फ्लू के वायरस A/H1N1pdm09 को लोगों से दूर रखा गया, लेकिन चीन में जो इसका नया स्ट्रेन देखा गया है वो 2009 में महामारी फैलाने वाले स्वाइन फ्लू से मिलता-जुलता है। शोधकर्ता किन-चो चेंग के मुताबिक, नया स्ट्रेन G4 EA H1N1 इंसान की सांस नली में पहुंचकर अपनी कोशिकाओं की संख्या को बढ़ा सकता है। इसके अंदर ऐसा करने की पर्याप्त क्षमता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 + = 19