दबंग के डायरेक्टर अभिनव बोले- जहरीले तालाब के हेड हैं सलमान एंड फैमिली, मैंने भी घुटने नहीं टेके

New Delhi : फिल्म मेकर अभिनव सिंह ने भी सरकार से इस मामले की तह तक छानबीन की अपील की है। अभिनव ने अपने फेसबुक पर लंबा-चौड़ा पोस्ट किया है और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े उन कड़वे सच को लेकर काफी बातें कही हैं जिसकी वजह से सुशांत परेशान थे। उन्होंने लिखा है- सुशांत ने इंडस्ट्री के उस बड़े प्रॉब्लम को सामने लाकर रख दिया है, जिससे हममें से कई लोग डील करते हैं। वैसे वास्तव में ऐसी कौन सी वजह हो सकती है जो किसी को ऐसा करने पर मजबूर कर दे? मुझे डर है कि यह #metoo की तरह एक बड़े मूवमेंट की शुरुआत न हो। अभिनव ने भी सलमान खान और उनकी फैमिली पर परेशान करने औ टार्चर के आरोप लगाये हैं।

My appeal to the Government to launch a detailed investigation. Rest in peace Sushant Singh Rajput… Om Shanti.. But…

Posted by Abhinav Singh Kashyap on Monday, June 15, 2020

सुशांत सिंह राजपूत की घटना ने यशराज फिल्म्स के टैलंट मैनजमेंट एजेंसी की भूमिका पर सवाल खड़े कर दिये हैं, जिसने हो सकता है उन्हें यह कदम उठाने को मजबूर किया हो। ये लोग आपका करियर नहीं बनाते, आपके करियर को बर्बाद करके रख देते हैं। एक दशक से तो मैं खुद ये सब झेल रहा हूं। मैं दावे के साथ कह सकता हूं – बॉलिवुड के हर टैलंट मैनजर और सभी टैलंट मैनेजमेंट एजेंसी कलाकारों के लिये बर्बादी हैं। ये सभी वाइट कॉलर्ड दलाल होते हैं। इनके साथ सभी इनवॉल्व रहते हैं। इनका एक ही सिंपल मंत्र है- हमाम में सब नंगे और जो नंगे नहीं हैं उनको नंगा करो क्योंकि अगर एक भी पकड़ा गया तो सब पकड़े जायेंगे।

जैसे ही ये टैलंट इन एजेंसी के साथ डील साइन करते हैं उसके बाद करियर से जुड़े किसी भी फैसले को लेकर उनकी अपनी च्वाइस का अधिकार खत्म हो जाता है। उन्हें बंधुआ मजदूर की तरह कम पैसों पर काम करवाया जाता है। …और यदि वह बहादुर है और मैनेजमेंट के हाथ से छूट भी जाता है तो फिर उन्हें सिस्टम जानबूझकर बॉयकॉट कर देता है। उसका नाम तब तक के लिए गायब हो जाता है जबतक वह अपने बेहतर कल की उम्मीद में किसी और एजेंसी का हाथ न थाम ले।

मेरा अनुभव भी इन सब चीजों से अलग नहीं रहा और मैंने भी शोषण और दादागीरी को झेला है। ‘दबंग’ के समय अरबाज खान और उसके बाद से हमेशा। तो यहां मैं बता रहा हूं ‘दबंग’ के बाद के अगले 10 साल की कहानी। 10 साल पहले ‘दबंग 2’ की मेकिंग से मेरे बाहर निकलने की वजह यह थी कि अरबाज खान और सोहेल खान अपनी फैमिली से मिलकर मेरे करियर पर कंट्रोल करने की कोशिश कर रहे थे और मुझे काफी डराया-धमकाया गया।
अरबाज ने मेरा दूसरा प्रॉजेक्ट भी बिगाड़ दिया जो कि श्री अष्टविनायक फिल्म्स का था, जिसे मैंने उसके हेट मिस्टर राज मेहता के कहने पर साइन किया था। उन्हें मेरे साथ काम करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी गई। मैंने श्री अष्टविनायक फिल्म्स को पैसे वापस दे दिए और फिर मैं Viacom पिक्चर्स में गया। उन्होंने भी ऐसा ही किया। बस इस बार नुकसान पहुंचाने वाला सोहेल खान थे और उन्होंने वहां के सीईओ विक्रम मल्होत्रा को धमकी दी। मेरा प्रॉजेक्ट खत्म हो चुका था और मैंने साइनिंग फीस 7 करोड़ रुपये 90 लाख इंटरेस्ट के साथ लौटाए। इसके बाद मुझे बचाने के लिए रिलायंस एंटरटेन्मेंट सामने आया हमने साझेदारी में फिल्म ‘बेशरम’ पर काम किया।

इसके बाद सलमान खान और फैमिली ने फिल्म की रिलीज़ में रोड़े अटकाए ‘बेशरम’ की रिलीज़ से ठीक पहले उनके पीआरओ ने मुझपर खूब कीचड़ उछाले और मेरे खिलाफ नेगेटिव कैंपेन चलाया। हालात ये हो गए कि डिस्ट्रिब्यूटर्स मेरी फिल्म खरीदने से डर गए। खैर, रिलायंस इंडस्ट्री और मुझमें इस फिल्म को रिलीज करने की क्षमता थी, लेकिन यह लड़ाई शुरू हो चुकी थी। मेरे दुश्मन मेरे खिलाफ नेगेटिव कैंपेन चलाते रहे और फिल्म के बारे में बुरा कहते रहे ताकि यह बॉक्स ऑफिस पर ध्वस्त हो जाए, लेकिन यह जैसे-तैसे 58 करोड़ कमा गई।
लेकिन उनकी लड़ाई जारी रही… उन्होंने फिल्म की सैटेलाइट रिलीज पर भी लगाया जो कि पहले ही Zee Telefilms के जयंती लाल को बेचा जा चुका था। हालांकि, रिलायंस के साथ अच्छे संबंध की वजह से सैटेलाइट राइट्स को लेकर नेगोशिएट हुआ, लेकिन काफी कम पैसों में।

इसके बाद कई सालो तक मेरे कई प्रॉजेक्ट्स अटक गए और मुझे मारने के साथ-साथ मेरे घर की फीमेल मेंबर्स के साथ रेप तक की धमकियां मिलीं। इस सबने मेरे और मेरी फैमिली के मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा चोट पहुंचाया मेरा तलाक हो गया, मेरा फैमिली साल 2017 में पूरी तरह से बिखर गई। उन्होंने इस तरह की धमकियां अलग-अलग नंबर से टेक्स्ट मेसेज के जरिए दी थी। मैं सबूत के साथ साल 2017 में एफआईआर दर्ज करवाने पुलिस स्टेशन पहुंचा और उन्होंने इसे रजिस्टर करने से इनकार कर दिया। जब ऐसी धमकियां आती रहीं तो मैंने पुलिस को फोर्स किया कि वे मेसेज भेजने वाले का पता लगाएं तो वे उन्हें (सोहेल खान- जिसपर मुझे मेसेज भेजने का शक था) ढूंढ नहीं पाए । मेरी शिकायत अब भी ओपन है जबकि मेरे पास पुख्ता सबूत हैं।

मेरे दुश्मन काफी शातिर और चालाक हैं। हमेशा मुझपर छिपकर वार करते हैं, लेकिन अच्छी बात यह है कि मुझे इन 10 सालों में पता लग गया है कि कौन मेरे दुश्मन हैं। मैं आपको बता दूं कि ये हैं- सलीम खान, सलमान खान, अरबाज खान और सोहेल खान। वैसे तो छोटी-मोटी कई मछलियां हैं लेकिन सलमान खान का परिवार इस जहरीले तालाब का हेड है। वे किसी को भी डराने-धमकाने के लिए अपने पैसे, पॉलिटकल पावर और अंडरवर्ल्ड की ताकतों का मिलाकर इस्तेमाल करते हैं। दुर्भाग्य से सच्चाई मेरी तरफ है और मैं सुशांत सिंह राजपूत की तरह हथियार नहीं रखने वाला। मैंने घुटने टेकने से इनकार कर दिया और तब तक लडूंगा जब तक कि या तो वे या फिर मैं खत्म न हो जाएं। बहुत हो गया बर्दाश्त, अब समय लड़ने का है।

…और यह धमकी नहीं है, यह ओपन चैलेंज है। सुशांत सिंह राजपूत आगे निकल गए और उम्मीद करता हूं कि वह जहां भी होंगे ज्यादा खुश होंगे, लेकिन मैं यकीन दिलाता हूं कि अब कोई इनोसेंट बॉलिवुड में सम्मान के साथ काम न मिलने पर अपनी जान नहीं देगा।
मुझे उम्मीद है कि जो आर्टिस्ट इस सच को झेल चुके हैं वे मेरे पोस्ट को अलग-अलग सोशल प्लैटफॉर्म पर रीशेयर करेंगे।- – Abhinav Singh Kashyap

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − = 13