कोरोना ने काम छीना, जीने का हुनर नहीं : सब्जी बेचने लगे आमिर खान की गुलाम के दोस्त जावेद

New Delhi : 80 और 90 के दशक में फिल्मों में बाल कलाकार के तौर पर काम कर चुके एक्टर जावेद हैदर पर लॉकडाउन बेहद बुरा वक्त लेकर आया है। काम न मिलने के कारण जावेद सब्जी बेचने पर मजबूर हो गये हैं। जावेद की हालत का पता तब चला जब डॉली बिंद्रा ने उनका वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया। टिकटॉक पर बने इस वीडियो में जावेद दुनिया में रहना है तो काम कर प्यारे गाने पर लिपसिंक करते और सब्जी बेचते हुए नजर आ रहे हैं।

जावेद पहले एक्टर नहीं हैं, जो लॉकडाउन में बुरे दौर से गुजर रहे हैं। इसके पहले राजेश करीर ने भी एक इमोशनल वीडियो शेयर कर मदद की गुहार लगाई थी। वीडियो वायरल होते ही राजेश को आर्थिक मदद मिल गई थी। जावेद हैदर भी उसी दौर से गुजर रहे हैं, क्योंकि बॉलीवुड और टीवी इंडस्ट्री में 19 मार्च से शूटिंग बंद थी, जो तमाम फिल्म संगठनों ने शूटिंग से जुड़ी गाइडलाइन्स जारी होने के बाद कुछ टीवी शोज की शूटिंग शुरू हो चुकी है।
बाल कलाकार के तौर पर फिल्म बाप नंबरी बेटा दस नंबरी में कादर खान के बेटे के रूप में भी दिखाई दिए थे। इसके अलावा उन्हें आमिर खान की फिल्म गुलाम और बाबर में देखा गया था। टीवी शो जीनी और जू जू, लाइफ की ऐसी की तैसी में भी नजर आए थे।
इरफान खान के साथ ‘अंग्रेजी मीडियम’ फिल्म में नजर आ चुकीं राधिका मदान अपनी बेहतरीन एक्टिंग के चलते खूब तारीफें बटोर चुकी हैं। फिल्मों में एंट्री लेने से पहले राधिका टीवी शो ‘मेरी आशिकी तुमसे ही’ शो का हिस्सा रही हैं। सुशांत के जाने के बाद राधिका ने बताया कि वो फिल्मों में आने से पहले हर किसी को उन्हीं का उदाहरण दिया करती थीं।

स्पॉटब्वॉय को दिये इंटरव्यू में राधिका ने कहा- सुशांत वो हैं जिन्होंने मुझे इंस्पायर किया है। मैंने टीवी से बॉलीवुड का सफर तय किया क्योंकि उन्होंने इसे पॉसिबल होता दिखाया। जब भी लोग मुझसे कहते थे कि टीवी से ही जुड़े रहो क्योंकि टीवी एक्टर को कोई नहीं लेता तो मैं सुशांत का उदाहरण दिया करती थी। मैं उन्हें उनके काम के लिए याद रखूंगी।
नेपोटिज्स, लॉबी कल्चर और ग्रुपिज्म पर राधिका ने कहा- टीवी एक्ट्रेस होने के नाते नहीं लेकिन इंडस्ट्री का ना होने के चलते सफर मुश्किल रहा, जाहिर है कि हमे ये फेस करना पड़ता है। मैं अपना 200 प्रतिशत दूंगी ये जानने के बाद भी कि रोल किसी स्टारकिड को दिया जा रहा है। मैं हमेशा ऑडीशन देने के लिए विनती करूंगी। मेरा काम अपना बेस्ट देना है और रात को सुकून से सोना है ये सोचकर कि मैंने बेस्ट दिया। ये इंड्स्ट्री में होता है और सबको इस बारे में पता है। मैं नहीं चाहती कि लोग ये जानकर अपनी जान ले लें बल्कि हिम्मत के साथ इसे सही करें।
राधिका मदान ने साल 2014 में कलर्स चैनल के शो ‘मेरी आशिकी तुमसे ही’ से एक्टिंग डेब्यू किया था। इसके चार साल बाद एक्ट्रेस ने 2018 में ‘पटाखा’ से बॉलीवुड डेब्यू किया। ‘मर्द को दर्द नहीं’ होता और ‘अंग्रेजी मीडियम’ में बेहतरीन प्रदर्शन देने के बाद अब राधिका जल्द कुणाल देशमुख के निर्देशन में बनी फिल्म ‘शिद्दत’ में नजर आयेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

95 − 89 =