जिंदादिल : जब 10वीं में 56 प्रतिशत लाये रणबीर तो ऋषि कपूर ने खुश होकर लंदन में दी थी पार्टी

New Delhi : ऋषि कपूर बचपन से ही एक्टर बनना चाहते थे। मेरा नाम जोकर फिल्म में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम करने के बाद ऋषि ने एक्टिंग में ही अपना करियर बनाने का मन बना लिया था जिसके चलते पढ़ाई में उनका इंटरेस्ट खत्म होता गया। एक इंटरव्यू के दौरान रणबीर ने पिता और पढ़ाई पर बात करते हुए खुद को कपूर फैमिली का सबसे पढ़ा लिखा इंसान बताया था।

हाल के दिनों में इलाजरत ऋषि कपूर अपनी फैमिली के साथ।

रणबीर कपूर ने बताया – वो खुद एक एवरेज से भी खराब स्टूडेंट रहे हैं। ऐसे में जब भी उनका रिजल्ट खराब आता तो मां नीतू उन्हें पापा को बताने की धमकी देती थीं। हालांकि ऋषि खुद भी खराब स्टूडेंट रहे हैं। मुझे खुशी है कि उस समय ट्विटर नहीं हुआ करता था वरना पापा पता नहीं उसमें क्या लिख देते।
इंटरव्यू के दौरान रणबीर ने कहा – मेरे परिवार का इतिहास पढ़ाई में काफी खराब रहा है। मेरे पिता 8वी में फेल हुए थे, मेरे अंकल 9वी में फेल हुए थे और मेरे दादाजी 6वी में। मैं वाकई में अपने परिवार का सबसे पढ़ा-लिखा लड़का हूं। मुझे 10वी क्लास में 56 प्रतिशत आये थे, इस बात पर लंदन में मेरे परिवार ने जश्न भी मनाया था।

अंतिम संस्कार के दौरान सिर झुकाकर लगातार रोते रहे और पिता को निहारते रहे रणबीर कपूर।

ऋषि कपूर ने भाईयों के साथ ही चैम्पियन स्कूल से अपनी प्रारंभिक शिक्षा ली है जिसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई अजमेर के मायो कॉलेज से की। ऋषि कपूर ने स्नातक के लिए कॉलेज जरुर ज्वॉइन किया मगर अपने एक्टिंग करियर के लिए उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

75 + = 79