डा. रूना झा : कोरोना से जंग में अग्रिम मोर्चे पर लड़ रही वर्ल्ड की टॉप 5 महिला की लिस्ट में शामिल

New Delhi : सीनियर मोस्ट डॉक्टर रूना झा को यूनाइटेड नेशन्स ने उन शीर्ष पांच महिलाओं की सूची में शामिल किया है जो कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जंग में अग्रिम पंक्ति में खड़ी होकर जंग का नेतृत्व कर रही हैं। मूल रूप से बिहार की रहनेवाली रूना झा फिलहाल नेपाल के कठमांडु स्थित नेशनल पब्लिक हेल्थ लैबोरेटरी की निदेशक हैं। रूना झा अपनी टीम के साथ एक दिन में लगभग 70 नमूनों का परीक्षण कर रही हैं, जो अनियमित अंतराल पर आते हैं और लगभग सही काम करते हैं।

खरिपाटी के क्वारैंटाइन सेंटर के बाहर पूरी तैयारी और टीम के साथ।

नेपाल में प्रमुख कोरोना वायरस परीक्षण प्रयासों के शीर्षक के साथ, संयुक्त राष्ट्र महिला ने अपनी वेबसाइट पर उनका परिचय और डा़ झा के कर्तव्यों का एक संक्षिप्त विवरण भी शामिल किया है। इसमें बताया गया है – डॉ रूना झा नेपाल में COVID-19 परीक्षण का संचालन करने के लिए अधिकृत एकमात्र प्रयोगशाला की मुख्य रोगविज्ञानी और निदेशक हैं। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी कोरोनावायरस रिसोर्स सेंटर के मुताबिक, चीन के हुबेई प्रांत में घातक कोरोनावायरस, दुनिया भर में सभी देशों को त्रस्त करता जा रहा है और फिलहाल रुकता नहीं दिख रहा है। नेपाल उन राष्ट्रों में शामिल है, जिनमें कोरोनोवायरस के सबसे कम मामले हैं और कोरोना वायरस के अब तक केवल 59 मामलों की ही पुष्टि हुई है।
इस मसले पर संयुक्त राष्ट्र महिला वेबसाइट से बात करते हुए डा. झा ने कहा – लैब में देर तक रुकना आदर्श बन गया है। नया मानदंड बन गया है। तकनीकी कार्य के अलावा, मुझे लॉजिस्टिक्स का भी प्रबंधन करना होता है, जैसे कि मेरी टीम के लिए परिवहन और भोजन की व्यवस्था करना। उनकी टीम की देखभाल वर्तमान में उनके लिये उच्च प्राथमिकता है।
उन्होंने कहा – यह सब फरवरी के मध्य में शुरू हुआ जब उनकी टीम एक क्वारैंटाइन सेंटर में प्रवेश करने वाला था। हमलोग पहली टीम थे। इसमें चीन के वुहान से 175 नेपाली छात्रों को लाया गया था।

डा. झा ने कहा – मेरी टीम ने स्वयंसेवकों से नमूने लेने में संकोच नहीं किया। वे सभी तैयार थे। हमने पूरी रात काम किया और अगले दिन 175 रिपोर्टें तैयार कीं।

प्रयोगशाला का हर काम की जवाबदेही इनके कंधों पर।

झा ने कहा कि वह सहयोगियों, हेल्थ वर्करों का समर्थन करने और उनका मनोबल बढ़ाने की पूरी कोशिश करती हैं। यूएन की सूची में शामिल अन्य महिलाओं में कजाकिस्तान से नेमोल्ची आंदोलन की एक नेता- डीना समायलोवा, चीन के उत्तर-पश्चिमी किन्हाई प्रांत के ग्रामीण ज़ियाओओ में एक चेकपॉइंट की एक स्वयंसेवक (जो इलाके के वाहनों की जानकारी दर्ज करती है) यिन शोलिआना है। इसके अलावा यूएसए के कैलिफोर्निया की हाउस कीपिंग निदेशक रियानसिया हेनरी (सोशल मीडिया पर उपयोगी संदेश शेयर करती हैं और दूसरों के साथ कैसा व्यवहार हो इसकी जानकारी पर फोकस करती हैं।) के अलावा जॉर्डन में संयुक्त राष्ट्र की वीमेन फील्ड एसिस्टेंट अमल अल महायरा और हादेल डाबाइबेह के नाम शामिल हैं। ये दोनों जॉर्डन की महिलाओं की बेहतरी और सुरक्षा के क्षेत्र में काम करती हैं। खासकर सीरियाई शरणार्थियों के लिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

39 − = 32