चारधाम यात्रा के लिये BRO ने चंबा शहर के नीचे निकाला गुफा, गडकरी बोले- हमें आप पर गर्व है

New Delhi : बार्डर रोड आर्गेनाइजेशन ने प्रतिष्ठित चारधाम ऑलवेदर रोड प्रोजेक्ट के तहत ऋषिकेश-धरासू हाईवे पर घनी आबादी वाले चंबा शहर के नीचे सुरंग निर्माण में सफलता हासिल कर ली है। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने टनल के दोनों छोर आर-पार होने पर वीडियो कॉन्फेंसिंग के माध्यम से बार्डर रोड आर्गेनाइजेशन के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी।

गडकरी ने कहा – चारधाम परियोजना से उत्तराखंड में दुनिया भर के सैलानियों की सालभर चहलकदमी बनी रहेगी। राज्य के लोगों के लिये रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे। ऑल वेदर रोड परियोजना का काम जल्द पूरा होने के बाद चारधाम यात्रा सुगम हो सकेगी। केंद्रीय मंत्री ने बार्डर रोड आर्गेनाइजेशन को निर्माण कार्य समय पर पूरा करने के भी निर्देश दिये। सुरंग के उत्तर और दक्षिण पोर्टल्स से मिलाने का कार्य लॉकडाउन के बीच पूरा किया गया। भूमि अधिग्रहण, कमजोर भूविज्ञान, निरंतर जल निकासी और सुरंग के ऊपर घना निर्मित क्षेत्र होने के कारण नीचे बैठने की संभावना के मद्देनजर सुरंग का निर्माण चुनौतीपूर्ण कार्य था।

 

बार्डर रोड आर्गेनाइजेशन ने जनवरी 2019 में सुरंग के उत्तर पोर्टल पर काम शुरू किया था। लेकिन दक्षिण पोर्टल पर काम अक्तूबर 2019 के बाद शुरू हो सका। चंबा सुरंग के निर्माण में नवीनतम ऑस्ट्रेलियाई तकनीक का उपयोग किया गया है। मैसर्स भारत कंस्ट्रक्शन, देहरादून द्वारा प्रदान की गई आधुनिक तकनीक और मशीनों के उपयोग के साथ-साथ समय-समय पर हुए नुकसान की भरपाई दिन और रात की पाली में कार्य करके की गई। सुरंग जनवरी 2021 में पूरा होने की निर्धारित तिथि से लगभग तीन महीने पहले अक्तूबर 2020 तक यातायात के लिए तैयार हो जायेगी।

सीमा सड़क संगठन के चीफ इंजीनियर आशु सिंह राठौर ने बताया कि 4.2 किमी सड़क और 440 मीटर सुरंग का निर्माण 87 करोड़ की लागत से किया जा रहा है । लगभग 12,000 करोड़ रूपये की लागत वाली प्रतिष्ठित चारधाम परियोजा ना के तहत, सीमा सड़क संगठन 249 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण कर रहा है, जो गंगोत्री और बदरीनाथ के पवित्र मंदिरों की ओर जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

66 − = 58