मोदी सरकार का चैलेंज : बनायें Zoom जैसा ऐप और पाएं 1 करोड़ रुपये का इनाम

New Delhi : कोरोना आपदा और लॉकडाउन की वजह से लोग घरों से ही काम कर रहे हैं। ऐसे में ऑफिस की मीटिंग के लिए वीडियो कॉलिंग ऐप Zoom, Microsft Team और Google Meet का काफी इस्तेमाल किया जा रहा है। हाल ही में Zoom ऐप यूजर्स के बीच काफी लोकप्रिय हुआ है। इसकी खासियत है कि इसमें एक समय में एक साथ 100 से ज्यादा लोग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जरिए कनेक्ट हो सकते हैं। लेकिन इस बीच ये भी खबर सुर्खियों में रही कि Zoom ऐप में यूजर्स का डाटा लीक किया जा रहा है। भारत सरकार ने इसको लेकर चेतावनी जारी की और सरकारी कामकाज में इस ऐप के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया।

ये भी खबर सुर्खियों में रही कि Zoom ऐप में यूजर्स का डाटा लीक किया जा रहा है। भारत सरकार ने इसको लेकर चेतावनी जारी की और सरकारी कामकाज में इस ऐप के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया।

चूंकि Zoom ऐप है बड़ा काम का सो केंद्र सरकार ने अब कुछ इसी तरह की देसी टेक्नॉलाजी ढूंढ निकालने का मन बनाया है। केंद्र सरकार ने अब एक ‘ऐप चैलेंज’ लॉन्च किया है। इस चैलेंज के तहत जीतने वाली टीम को 1 करोड़ रुपये का इनाम मिलेगा। केंद्र सरकार की वेबसाइट mygov.in पर जारी किए गए इस ऐप चैलेंज में Zoom ऐप जैसे ऐप को डेवलप करने के लिये कहा गया है। यह जानकारी दी गई है कि चैलेंज में जीतने वाली टीम को एक करोड़ रुपये का इनाम दिया जाएगा। चैलेंज के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू हो गए हैं और रजिस्ट्रेशन की आखिरी डेट 30 अप्रैल है। यानि जो भी इस चैलेंज में हिस्सा लेना चाहता है उसे 30 अप्रैल तक रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद 29 जून को सरकार रिजल्ट की घोषणा करेगी। जीतने वाली टीम को केंद्रीय सूचना एंव तकनीकी मंत्रालय की ओर से सर्टिफिकेट और 1 करोड़ रुपये का इनाम मिलेगा।
वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार सरकार ने इस ऐप चैलेंज के लिए कुछ नियम व शर्ते भी रखी हैं। जैसे कि यह ऐप सभी डिवाइसेज को सपोर्ट करने में सक्षम होना चाहिए। साथ ही सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है कि ये कम डाटा खर्च करने के साथ साथ कमजोर नेटवर्क पर भी काम कर सके। इसके अलावा ऐप में ट्रांसफर होने वाला डाटा इनक्रिप्टेड फॉर्मेट में होना चाहिए।

यह ऐप सभी डिवाइसेज को सपोर्ट करने में सक्षम होना चाहिए। साथ ही सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है कि ये कम डाटा खर्च करने के साथ साथ कमजोर नेटवर्क पर भी काम कर सके।

अधिकांश शैक्षणिक गतिविधियां और ऑनलाइन क्लासेज भी Zoom ऐप के जरिये संचालित थी लेकिन सरकार की एडवाइजरी के बाद ऑनलाइन क्लसेज भी माइक्रोसाफ्ट टीम जैसे ऐप पर शिफ्ट हो गये हैं। उल्लेखनीय है कि सरकार ने Zoom ऐप के खिलाफ एक एडवायरजरी जारी करते हुए कहा था कि सुरक्षा कारणों से इस ऐप का इस्तेमाल सरकारी अधिकारियों द्वारा नहीं किया जाना चाहिए। साथ ही ये भी चेतावनी दी थी कि Zoom ऐप से साइबर अटैक होने का खतरा है और इस ऐप को इस्तेमाल करने से बचें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

89 − = 82