राहुल गांधी को अफ़सर ने दिया टके सा जवाब : आपका तंज करना आसान, हम 24/7 देश के लिये काम करते हैं

New Delhi : आयुष्मान भारत के एक अफ़सर Varun Jhaveri ने कांग्रेस नेता Rahul Gandhi को Corona Virus को लेकर किये गये उनके एक तंज पर टके सा जवाब दिया है। अफ़सर ने कहा कि ट्वीट करके 180 कैरेक्टर में किसी भी सरकारी प्रयास को क्रिटिसाइज करना बेहद आसान है लेकिन 24/7 देश सेवा और आम लोगों की सेवा में काम करना आसान नहीं है।

दरअसल कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कल शेयर बाज़ार के औंधे मुँह गिरने के बाद एक ट्वीट कर कहा था कि Corona Virus बहुत बड़ी समस्या है। इससे अर्थव्यवस्था पूरी तरह चौपट हो सकती है। समस्या की अनदेखी करना और प्रशासनिक जड़ता इस समस्या का निदान नहीं है।

 

राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद वरुण झावेरी ने इसे रिट्वीट करते हुए करारा जवाब दिया। झावेरी ने लिखा – 1. जब चीन में केवल 50 मरीज़ सामने आये थे तो इंडिया ने थर्मल स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी। 2. इंडिया में कोरोना से किसी की जान जाने से पहले वीज़ा कैंसलकिये जाने लगे। 3. पूरी दुनिया से भारतीयों को निकाला जाने लगा। इसलिये 180 कैरेक्टर में क्रिटिसाइज करना बेहद आसान है लेकिन24/7 काम करते रहना बेहद मुश्किल है।

बहरहाल, स्थिति यह है कि भारत में कोरोनावायरस अभी दूसरी स्टेज में है। अगर इसे फैलने से नहीं रोका गया तो यह 30 दिनों मेंसंक्रमण के तीसरे स्टेज में पहुंच जाएगा। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव ने कहाअगले स्टेज में वायरस को रोकने के लिए 30 दिन हैं। यदि पर्याप्त उपाय किए तो स्टेज-III में पहुंचने से रोका जा सकता है। सरकारइस दिशा में आगे बढ़ रही है। वायरस से निपटने के लिए देश में जहां भी संक्रमण फैला, वहां इसके लिए तैयारियां स्थानीय परिस्थितियोंके मुताबिक की गईं।

भार्गव ने बताया कि थर्ड स्टेज में वायरस लोगों में फैलना शुरू होता है,जबकि फोर्थ स्टेज में पहुंचने पर यह स्थानीय महामारी का रूपलेता है। फिलहाल यह कह पाना मुश्किल है कि यह कब खत्म होगी। चीन और इटली में कोरोनावायरस संक्रमण स्टेज 6 में पहुंच गयाहै।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुख्य महामारी विशेषज्ञ डॉ. आरआर गंगाखेडकर ने बताया कि संक्रमण ऐसे लोगों से फैलाजिनकी ट्रैवल हिस्ट्री है। इन लोगों ने वायरस प्रभावित देशों की यात्राएं की और संक्रमितों के संपर्क आए। अभी जिन लोगों मेंकोरोनावायरस के लक्षण दिखे, उनकी जांच की गई है। जिन लोगों में फ्लू और सर्दीजुकाम के लक्षण हैं, उन्हें टेस्ट कराने की जरूरतनहीं हैं, क्योंकि वायरस का प्रभाव देश में भी सीमित जगहों पर ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + 1 =