MDH के मालिक मसाला कारोबारी महाशय धर्मपाल ने 5 करोड़ दान किया

New Delhi : अडानी ग्रुप के गौतम अडानी ने 100 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया है। अडानी ने ट्वीट कर कहा है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में प्रधानमंत्री राहत कोष में अडानी फाउंडेशन 100 करोड़ रुपये का योगदान दे रहा है। जिंदल स्टील व‌र्क्स ने 100 करोड़ रुपये दान किया है। मैनकाइंड फार्मा ने भी 51 करोड़ रुपये दिए हैं। कोटक महिंद्रा बैंक ने ट्वीट किया है – कोटक महिंद्रा बैंक और उदय कोटक 50 करोड़ (प्रत्येक 25 करोड़) रुपये तत्काल प्रधानमंत्री राहत कोष में दिए हैं।

एमडीएच समूह के चेयरमैन और प्रसिद्ध मसाला कारोबारी महाशय धर्मपाल ने अपने 97वें जन्मदिन के अवसर पर कोरोना वायरस की महामारी से पीडि़त लोगों की मदद के लिए पांच करोड़ रुपये दान देने की घोषणा की है। इस पांच करोड़ में से 2.5 करोड़ रुपये प्रधानमंत्री राहत कोष को, जबकि एक करोड़ रुपये दिल्ली के मुख्यमंत्री राहत कोष को दिए जाएंगे। इसी प्रकार एक करोड़ रुपये हरियाणा के कोरोना राहत कोष और 50 लाख रुपये आर्य समाज के राहत कोष को दिए जाएंगे।

म्यूजिक कंपनी T-Series ने कोरोना वायरस से जारी जंग में 12 करोड़ रुपये का दान किया है। PMcare में 11 करोड़ रुपये और मुख्यमंत्री कोष में 1 करोड़ का दान दिया है। म्यूजिक कंपनी T-Series के मालिक भूषण कुमार ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। भूषण कुमार ने ट्वीट किया – आज, हम सब एक मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। ऐसे में ये बहुत जरूरी है कि सभी मदद करें। मैं और टी सीरीज परिवार पीएम केयर फंड में 11 करोड़ की राशि दान करते हैं। हम मिलकर इससे लड़ सकते हैं। जय हिंद।
इसके अलावा टी सीरीज ने मुख्यमंत्री राहत कोष में भी एक करोड़ की राशि दी है। भूषण कुमार ने एक अन्य ट्वीट में लिखा- जरूरत की इस घड़ी में मुख्यमंत्री राहत कोष में टी सीरीज एक करोड़ दान करता है। उम्मीद है हम इस मुश्किल वक्त से जल्द निकल जाएंगे। घर पर रहिए, सुरक्षित रहिए।

इधर शाहरुख़, आमिर, सलमान तो कोरोना पीड़ितों के लिये आगे नहीं आये लेकिन अक्षय कुमार ने PM Modi के अपील के बाद कोरोना के जारी संक्रमण में सहयोग के उद‍्देश्य से 25 करोड़ रुपये का दान किया है। अक्षय कुमार ने कहा कि यह ऐसा वक्त है जहां हर एक व्यक्ति की जिंदगी महत्वपूर्ण है। हम सबको मिलकर लड़ना है और इस महामारी को हराना है। मुझे खुशी हो रही है कि इस माहामारी से निबटने में मैं भी अपना योगदान कर पा रहा हूं। उन्होंने प्रधानमंत्री राहत कोष में 25 करोड़ डोनेट किये हैं।
अक्षय के इस डोनेशन के बाद ट्विटर पर ‘#सलमानशाहरुखआमिरदानकरो’ ट्रेंड कर रहा है। लोग इस हैशटैग पर जमकर ट्वीट कर रहे हैं। ट्विटर पर लोग आमिर खान, सलमान खान और शाहरुख खान को लेकर दो गुटों में बंटे नजर आ रहे हैं। एक गुट इन तीनों से पैसे डोनेट करने को कह रहा है, तो वहीं दूसरा गुट इनके पक्ष में ट्वीट करता नजर आ रहा है। कुछ लोगों का कहना है कि ये सुपरस्टार्स पहले भी कई बार मदद कर चुके हैं और इस बार भी जरूर करेंगे।
एक यूजर ने आमिर खान और दीपिका पादुकोण को टैग करते हुए लिखा है – बाकी सब तो ठीक है लेकिन अब टुकड़े-टुकड़े गैंगे के सदस्य दीपिका पादुकोण और आमिर खान कहां हैं? वहीं एक अन्य ट्वीट में हम देख सकते हैं कि दीपिका के साथ कंगना, आलिया के साथ रणबीर कपूर और रणवीर सिंह पर भी निशाना साधा है।
PM Narendra Modi ने अक्षय कुमार को दान करने के लिये धन्यवाद देते हुए कहा – यह महान भाव है। PM Modi ने पीएम केयर में दान देनेवाले सभी लोगों को धन्यवाद दिया है। अभी पीएम केयर के शुरू हुए 24 घंटे भी नहीं हुए और अकाउंट में सैकों करोड़ का दान आ गया। Paytm ने ही 500 करोड़ का दान किया।
Paytm के मालिक विजय शेखर ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ने के लिये बनाये गये राहत कोष PMcare में 500 करोड़ रुपये दान करने का ऐलान किया। यही नहीं Paytm के जरिये जब भी कोई PM केयर में दान करेगा उसमें 10 रुपये Paytm अपनी तरफ से जोड़कर जमा करेगा।


यही नहीं टाटा ग्रुप ने कोरोना से संक्रमित लोगों की सहायता के लिये 1500 करोड़ रुपये का डोनेशन देने का ऐलान किया है। पहले टाटा के सर्वेसर्वा रतन टाटा ने एक ट्वीट कर जानकारी दी कि हम कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिये 500 करोड़ का सहयोग करने जा रहे हैं। इस रकम का इस्तेमाल टाटा ग्रुप ऑफ कंपनीज, टाटा सन्स और टाटा ट्रस्ट की देखरेख में होगा। इसके थेड़ी देर बाद ही टाटा सन्स के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने ऐलान किया – इस 500 करोड़ के अतिरिक्त 1000 करोड़ रुपये कोरोना से लड़ने के लिये डोनेट करेगी।
टाटा सन्स के चैयरमेन रतन टाटा ने घोषणा करते हुए कहा – टाटा ग्रुप कंपनीज, टाटा सन्स और टाटा ट्रस्ट मिलकर देखेंगे कि यह रकम मेडिकल कर्मियों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण प्रदान करने के लिए किया जाये। आज के वर्तमान दौर में मेडिकल कर्मी आगे बढ़चढ़ कर इस पूरे माहौल को संभाला जाये। यह रकम श्वसन प्रणाली, परीक्षण किट, मॉड्यूलर उपचार सुविधाओं की स्थापना, ज्ञान प्रबंधन और मेडिकल कर्मियों के प्रशिक्षण पर खर्च करेंगे।
रतन टाटा ने कहा – COVID-19 संकट सबसे कठिन चुनौतियों में से एक है। यह एक ऐतिहासिक लड़ाई है और हम इसका सामना मिलजुल कर करेंगे। टाटा ट्रस्ट्स और टाटा समूह की कंपनियों ने देश की जरूरतों को हमेशा पूरा किया है। इस समय किसी भी अन्य काल की तुलना में ज्यादा आर्थिक मदद की दरकार है।
उन्होंने कहा – हम तहेदिल से आभारी हैं उन मेडिकल कर्मियों, डॉक्टरों और वैसे सभी लोगों के लिये जो इस महामारी से लड़ने के लिए अपने जीवन और सुरक्षा को जोखिम में डालकर हमारी और पूरे समाज की सुरक्षा में जुटे हुए हैं।
टाटा संस के अध्यक्ष एन चंद्रशेखरन ने COVID-19 और संबंधित गतिविधियों के लिए 1,000 करोड़ रुपये के डोनेशन की घोषणा की। उन्होंने एक बयान में कहा – हम टाटा ट्रस्ट्स और हमारे मार्गदर्शक रतन टाटा के साथ मिलकर काम करेंगे और पूरी तरह से उनकी पहल का समर्थन करेंगे और सहयोग करेंगे। चंद्रशेखरन ने आगे कहा कि वे आवश्यक वेंटिलेटर भी लाएंगे। टाटा जल्द ही भारत में इसका निर्माण करने के लिए कमर कस रही है।

राष्ट्रपति से लेकर मंत्री, सरकारी संगठनों से लेकर व्यक्तिगत और निजी संस्थाओं, उद्यमियों से लेकर फिल्मी हस्तियों तक ने प्रधानमंत्री राहत कोष में बढ़-चढ़कर योगदान किया है या दान देने का ऐलान किया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक महीने का वेतन देने की घोषणा की है। राष्ट्रपति भवन की तरफ से ट्वीट कर इसकी जानकारी दी गई। राष्ट्रपति ने अन्य लोगों से भी दान देने की अपील की है, ताकि कोरोना जैसे दानव को जड़ से खत्म किया जा सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति की इस उदारता के प्रति उनका आभार जताया है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है, ‘धन्यवाद राष्ट्रपति जी। देश को रास्ता दिखाने और प्रेरित करने के लिए।’

उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, लोकसभा के स्पीकर ओम बिरला, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, धर्मेद्र प्रधान व प्रकाश जावडेकर समेत अन्य कई मंत्रियों ने भी प्रधानमंत्री राहत कोष में योगदान देने की घोषणा की है। जावडेकर ने एक करोड़ रुपये देने की घोषणा की है। वह पुणे प्रशासन को भी एक करोड़ रुपये देंगे।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्री के आह्वान पर मैं, सुरेश अंगड़ी एक महीने का वेतन, रेलवे और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के 13 लाख कर्मचारी अपना एक दिन का वेतन देंगे, जो करीब 151 करोड़ रुपये है।’ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एक महीने का वेतन देने की घोषणा की है। सेना, नौसेना और वायुसेना के जवानों के साथ ही रक्षा मंत्रालय के कर्मचारी भी एक दिन का वेतन दान करेंगे। यह पूरी रकम तकरीबन 500 करोड़ रुपये बैठेगी।
भाजपा ने भी कहा है कि उसके सभी सांसद एक महीने का वेतन दान करेंगे। पार्टी ने अपने लोकसभा के 303 और राज्य सभा के 83 सदस्यों से भी सांसद निधि से एक-एक करोड़ रुपये देने को कहा है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की तरफ से 116 करोड़ रुपये का योगदान दिया जाएगा। केंद्रीय जांच ब्यूरो के अधिकारियों ने भी एक दिन का वेतन दान करने की घोषणा की है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने भी 21 लाख रुपये देने की घोषणा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = 1