छाती पर तनी थी पिस्तौल, फिर भी डटा रहा जवान : हेड कॉन्स्टेबल, 4 नागरिक की मौत

New Delhi : CAA के मुद्दे पर उत्तरपूर्व दिल्ली में सोमवार को लगातार दूसरे दिन हिंसा हुई। जाफराबाद और मौजपुर इलाके में सीएएविरोधी और समर्थक गुटों के बीच झड़प में कुल पांच लोगों की मौत हो गई। सिर पर पत्थर लगने से हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की जानचली गई। हिंसा में शहादरा के डीसीपी अमित शर्मा, एसीपी अनुज कुमार समेत 10 जवान घायल हुए हैं।। उपद्रवियों ने कई जगहों परगाड़ियों में आग लगा दी। भजनपुरा में पेट्रोल पंप भी फूंक दिया। जाफराबाद में उपद्रवियों ने खुलेआम पिस्तौल लहराई और फायरिंगकी। खजूरी खास में पुलिस खुद भी उपद्रवियों पर पथराव करती नजर आई। रविवार शाम को इस इलाके में पहली बार तब हिंसा भड़कीथी, जब भाजपा नेता कपिल मिश्रा एक सड़क खुलवाने पहुंचे थे।

 

बेक़ाबू भीड़ एक नागरिक को पीटती हुई

लगातार दो दिन हुई हिंसा के बाद सोमवार शाम को उत्तरपूर्व दिल्ली में सीआरपीएफ की 8 कंपनियां तैनात कर दी गई हैं। डीएमआरसीने एहतियातन 9 मेट्रो स्टेशन जाफराबाद, मौजपुरबाबरपुर, गोकुलपुरी, जोहरी एन्क्लेव, शिव विहार, उद्योग भवन, पटेल चौक, केंद्रीयसचिवालय और जनपथ मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए जिस इलाके में हिंसा भड़की है, वह चाणक्यपुरी से करीब 20 किमी की दूरी पर है, जहां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ठहरे हैं। हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह को दिल्ली के हालात का जायजा लेने के लिए आपातबैठक बुलानी पड़ी।

सोमवार सुबह दिल्ली मेट्रो ने ट्वीट कर जानकारी दी कि जफराबाद, मौजपुरबाबरपुर स्टेशनों पर एंट्री और एग्जिट गेट बंद रहेंगे और इनस्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी।

पत्थरबाज़ी में घायल हेड कॉन्स्टेबल जिनकी बाद में मौत हो गई

हिंसा दिल्ली के उत्तर पूर्व जिले के शाहदरा इलाके तक सीमित है। विरोध प्रदर्शन सोमवार सुबह 10 बजे के आसपास मौजपुर में शुरूहोने की खबर मिली. शाम 5 बजे तक हिंसा और आगजनी की वजह से आसपास के इलाके जाफराबाद, भजनपुरा और करावल नगरमें भी आगजनी की खबर मिली।

दोपहर 1 बजे के करीब मौजपुर को जाफराबाद से जोड़ने वाली सड़क पर हुई झड़पों के दौरान लाल टीशर्ट पहने एक शख्स ने देसीपिस्तौल से फायरिंग की। जब एक पुलिसकर्मी ने उसे फायरिंग से रोकने की कोशिश की तो उसने पुलिस को एक तरफ धकेल दियाऔर 8 राउंड फायरिंग की. इस फायरिंग में कोई घायल नहीं हुआ। वहीं शख्स भीड़ में पुलिस को चकमा देकर भाग निकला।

स्थानीय प्रशासन ने धारा 144 लगाई है। इसके बाद इलाके में पांच या उससे ज्यादा लोग एक साथ इकट्ठा नहीं हो सकते हैं। वहीं इलाकेमें कानून व्यवस्था को बहाल करने के लिए दिल्ली पुलिस के जवानों और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की भारी तैनाती भी की गई है। जिलाप्रशासन दोनों पक्षों से हिंसा को दूर करने और शांति बनाए रखने की अपील कर रहा है। दिल्ली पुलिस ने भी शांति की अपील की है औरलोगों से अफवाहों पर भरोसा ना करने की अपील की है।

मौजपुर और जाफराबाद के आसपास हुई हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने कहा कि उत्तर पूर्वी जिले के इलाकों में, खासतौर पर मौजपुर, कर्दमपुरी, चांद बाग और दयालपुर में हिंसा और आगजनी की कुछ घटनाएं हुईं।दिल्ली पुलिस ने बयान में कहा, दिल्ली और विशेष रूपसे उत्तर पूर्व जिले के लोगों से अपील की गई है कि वे शांति और सद्भाव बनाए रखें और किसी भी अफवाहों पर भरोसा ना करें।

दिल्ली पुलिस ने मीडिया से भी यह अपील की है कि वे कोई भी परेशान करने वाली तस्वीरों को प्रसारित करें, जो स्थिति को बेकाबूकरे। पुलिस ने कहा, सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। उत्तर पूर्वी जिले के प्रभावित इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है और उपद्रवियों असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस और अर्धसैनिक बलों  की तैनाती के साथ शांति की अपील की गई है। साथ ही दिल्ली पुलिस ने मौजपुरजाफराबाद सड़क परफ्लैग मार्च भी किया है।

उत्तरपूर्वी दिल्ली में टकराव की शुरुआत शनिवार शाम से हुई थी, जब जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे की सड़क पर बड़ी संख्या मेंप्रदर्शनकारी जुटने लगे। इनमें ज्यादातर महिलाएं थीं। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि शाहीन बाग की तरह हम यहां से भी नहीं हटनेवाले। लेकिन पुलिस वहां से तिरपाल और तख्त उठाकर ले गई थी। पूर्वी दिल्ली के मौजपुर में भी प्रदर्शनकारियों ने एक सड़क बंद कररखी थी। रविवार को यहां पहली बार हिंसा भड़की। विवाद तब शुरू हुआ, जब भाजपा नेता कपिल मिश्रा अपने समर्थकों के साथ वहांपहुंचे और सड़क खुलवाने की मांग काे लेकर सड़क पर बैठकर हनुमान चालीसा पढ़ने लगे।

सोमवार सुबह से मौजपुर चौराहे पर मंदिर के सामने महिलाएं नागरिकता कानून के समर्थन में सड़क पर बैठ गईं। दूसरी तरफ इस कानूनके विरोध में प्रदर्शनकारी आमनेसामने हो गए। इसके बाद वहां माहौल भड़क गया और पत्थरबाजी शुरू हो गई। पथराव करने वाले लोगनकाब पहने हुए थे। इसके बाद हालात बेकाबू होते चले गए। वजीराबाद रोड पर प्रदर्शनकारियों ने कई गाड़ियों में आग लगा दी।जाफराबाद रोड पर उपद्रवियों ने फायरिंग की। सरेआम पिस्टल और तलवारें लहराईं। उनके सामने पुलिस बेबस नजर आई। भजनपुरा मेंपेट्रोल पंप में आग लगा दी। यहीं पर सिर पर लगे पत्थर से हेड कांस्टेबल रतनलाल की मौत हो गई। हिंसा के दौरान शाहदरा डीसीपी कीगाड़ी में भी आग लगा दी गई। दिनभर चली हिंसा में 10 से पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

पुलिस ने मौजपुर, कर्दमपुरी, चांद बाग, भजनपुरा और दयालपुर समेत 10 इलाकों में धारा 144 लगा दी है। पुलिस कमिश्नर अमूल्यपटनायक खुद कंट्रोल रूम से स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। पुलिस ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की और कहा कि अपने घरोंमें रहें और अफवाहों पर ध्यान दें। गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प के दिल्ली दौरे के मद्देनजर हिंसकझड़प के बाद स्थिति पर नजर रखी जा रही है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि इलाके में भारी पुलिस और अर्धसैनिक बलतैनात है। उन्होंने स्थिति नियंत्रण में होने का दावा किया। हिंसा के चलते उत्तर पूर्वी दिल्ली में सभी सरकारी और निजी स्कूलों को बंद कर दिया गया है, वहीं बोर्ड परीक्षाएं भी टाली जाएंगी।दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहाहालात को देखते हुए बोर्ड परीक्षाओं की तारीख आगे बढ़ाई जाएगी। इस बारे मेंकेंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल से चर्चा कर ली गई है।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किशन रेड्‌डी ने कहाट्रम्प के दौरे के समय हिंसा होना बड़ी साजिश की तरफ इशारा कर रहा है। गृह मंत्रालयलगातार हालात पर नजर बनाए हुए है। दोषियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कांग्रेस और सीएए विरोधियों पर भीनिशाना साधा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और सीएए विरोधियों को इस पर जवाब देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

84 + = 93