100 घंटे के बाद भी नहीं मिला AN-32 विमान, IAF ने सर्च ऑपरेशन में किया विस्तार

New Delhi: 100 घंटे से ज्यादा हो गए हैं लेकिन अब तक लापता हुए विमान AN-32 का कोई पता नहीं चल पाया है। भारतीय वायु सेना ने अपने बहादुर योद्धाओं का पता लगाने के लिए सर्च ऑपरेशन तेज़ कर दिया है। इसी के साथ खराब मौसम होने के बावजूद भी भारतीय वायु सेना ने इस अभियान में और ज्यादा संसाधन लगाएं हैं जो विमान को ढूढ़ने में मदद करेंगे। आज सुबह भारतीय वायु सेना ने लॉन्ग रेंज मैरीटाइम टोही विमान को विशेष रडार और सेंसर के साथ खोज के लिए भेजा है।  

गुरुवार देर रात IAF ने ट्वीट कर कहा है कि ‘खराब मौसम होने के बावजूद भी सर्च अभियान जारी है। हम निरंतर पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। हमारे खोजी दल घने जंगलों में भी तलाश कर अथक प्रयास कर रहे हैं।  साथ ही भारतीय वायु सेना ने कहा कि ‘उपग्रह से मिल रहे डेटाओं का विश्लेषण किया जा रहा है। रात में विमानों के जरिये लापता विमान AN 32 को तलाश किया जा रहा है। खोजी दल संभावित इलाकों में पैदल जाकर भी तलाश कर रहे है।’

IAF ने जानकारी दी कि तलाशी अभियान के लिए लड़ाकू विमान C 130, विशेष सेंसर, हेलिकॉप्टर और उपग्रह ले जाने वाले विमान तैनात किए गए हैं। इसके साथ ही IAF ने नागरिकों, पुलिस और स्थानीय एजेंसियों से भी मदद मांगी है। बता दें कि सोमवार को रूस निर्मित यह विमान मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए रात 12.27 बजे जोरहाट से रवाना हुआ था। ग्राउंड कंट्रोल के साथ इसका आखिरी संपर्क दोपहर 1 बजे था।  AN 32 विमान 3 जून को लापता हुआ था। इसकी खोज में जारी अभियान को 100 घंटे से ज्यादा हो चुके है पर अब तक विमान का कोई पता नहीं चल पाया है।