भारत – नेपाल के बीच पेट्रोलियम पाइपलाइन का काम हुआ पूरा

New Delhi : दक्षिण एशिया की पहली भारत और नेपाल के बीच बिछाई जा रही पेट्रोलियम पाइपलाइन का कार्य पूरा हो गया है। यह पाइपलाइन भारत के मोतिहारी से लेकर नेपाल के अमलेखगंज तक बिछाई गई है। जिसकी कुल लंबाई 70.2 किलोमीटर है। भारत में मोतिहारी से रक्सौल तक 32.65 किलोमीटर तक का काम एक महीने पहले ही हो गया था , रक्सौल से लेकर अमलेखगंज तक 37.25 किलोमीटर नेपाल के हिस्से का काम भी पूरा हो गया। 

नेपाल ऑइल कॉर्पोरेशन के इंजीनियरों समेत 25 लोगों की टीम हाइड्रो टेस्ट और अन्य तकनीकि कार्यो के प्रशिक्षण लिए लखनऊ गए है। इंडियन आयल कॉर्पोरेशन दक्षिण एशिया की पहली सीमापार पेट्रोलियम पाइपलाइन के रखरखाव के लिए तकनीशियनों को प्रशिक्षण देने के लिए तैयार है।

नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली के भारत दौरे के दौरान दिल्ली के हैदराबाद हाउस में 24 अगस्त 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली ने मोतिहारी -अमलेखगंज पेट्रोलियम पाइपलाइन की नींव रखी थी।
70. 2 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन परियोजना की कुल लागत लगभग 2.75 अरब रुपये है।
यह परियोजना भारत और नेपाल दोनों की प्राथमिकता में शामिल थी। यह पाइपलाइन नेपाल के लिए ईंधन की जीवनरेखा मानी रहीं है। इस पाइपलाइन की शुरुआत जुलाई से हो सकती है।