पद्म पुरुष्कार के लिए रिकॉर्ड 50 हजार लोगों ने किया नामांकन, 2010 के आकड़ों को छोड़ा पीछे

New Delhi: पद्म पुरुष्कार को पाने के लिए इस साल रिकॉर्ड 50 हजार लोगों ने नामांकन किया है। गृह मंत्रालय की एक रिपोर्ट से इस बात का खलासा हुआ है।

गृह मंत्रालय के आकड़ों के अनुसार पद्म पुरुष्कार के लिए इस साल 2019 में 50 हजार लोगों ने नामांकन किया है। जो साल 2010 से 32 गुना ज्यादा है। साल 2010 में 1313 लोगों ने नामांकन किया था। पद्म पुरुष्कारों के लिए नामांकन करने वालों की संख्या में हर साल इजाफा हो रहा है। साल 2016 में 18,768 और 2017 में 35,595 लोगों ने नामांकन किया था।

मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि साल 2016 में पद्म पुरुष्कारों के लिए नामांकन प्रक्रिया ऑनलाइन की गई थी। नागरिकों की बड़ी संख्या में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एक सरल सुलभ और सुरक्षित ऑनलाइन मंच स्थापित किया गया था। उन्होंने आगे कहा कि तकनीक ने बड़े पैमाने पर लोगों के लिए नामांकन प्रक्रिया को सुलभ बना दिया है।

 

गणतंत्र दिवस, 2019 के अवसर पर मिलने वाले पद्म पुरस्कारों के ऑनलाइन नामांकन प्रक्रिया की घोषणा 1 मई 2018 को हुई थी और नामांकन जमा करने की अंतिम तिथि 15 सितंबर, 2018 थी। दरअसल पद्म पुरुष्कार देश के सर्वोच्च नागरिक पुरुष्कारो में सें हैं। 1954 में स्थापित इन पुरुष्कारों को हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर दिया जाता है।

पद्म पुरस्कार भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक हैं। ये पुरस्कार विभिन्न क्षेत्रों जैसे समाज सेवा,चिकित्सा, खेल-कूद, विज्ञान और इंजीनियरिंग, व्यापार और उद्योग, साहित्य कला, लोक-कार्य, शिक्षा, सिविल सेवा में उत्‍कृष्‍ट काम करने वालों को दिए जाते हैं।

The post पद्म पुरुष्कार के लिए रिकॉर्ड 50 हजार लोगों ने किया नामांकन, 2010 के आकड़ों को छोड़ा पीछे appeared first on Live States.