अमेरिका ने सऊदी से कहा- बहुत हो गया.. अब कतर पर लगाए गए बैन को हटाकर क्षेत्र में शांति बनाओ

New Delhi: US ने Saudi Arabia और उसके सहयोगी देशों से कतर पर लगे बैन को हटाने के लिए कहा है। कतर पर सऊदी और कुल 6 देशों ने पिछले साल से ही बैन लगा रखा है, जिसके कारण कतर को बड़ी मुसीबतों को सामना करना पड़ रहा है।

रियाद पहुंचे अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ ने सऊदी के विदेश मंत्री आदिल अल जुबैर से कहा कि अब अरब के इन देशों को आपस में विवाद सुलझा लेने चाहिए और कतर पर लगे बैन को खत्म करना चाहिए। जानकारी के लिए बता दें कि पिछले साल जून में सऊदी अरब और UAE समेत 6 खाड़ी देशों ने कतर पर बैन लगाए था। सऊदी और यूएई ने कतर पर आतंकवाद को साथ देने के लिए फंडिंग करने, ईरान से संबंध बढ़ाने और विद्रोहियों का साथ देने का आरोप लगाया था। 

जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिका इससे पहले बैन खत्म करने की मांग कर चुका है, पर तब सऊदी से ऐसा करने से इन्कार कर दिया था। पिछले अमेरिकी विदेश मंत्री टिलरसन को इसलिए नजरअंदाज कर दिया था क्योंकि कहा जा रहा था कि टिलरसन के अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से संबंध ठीक नहीं थे। विवाद के शुरुआती दिनों में डॉनल्ड ट्रंप ने सऊदी का पक्ष लिया था जिससे भी सऊदी का हौसला बुलंद था। 

तो वहीं दूसरी ओर कतर भी बैन को हटाने के लिए पिछले काफी समय से व्हाइट हाउस से अपनी नजदीकियां बढ़ाने में जुटा है। जिसमें अब उसे सफलता मिलती भी दिख रही है। कतर ने वॉशिंगटन से संबंध सुधारने के लिए लाखों डॉलर रुपये खर्च कर दिए जिसका परिणाम हाल के दिनों में सामने आया है। ट्रंप के साथ हाल ही में कतर के अमीर तमीम बिन हमाद अल सानी की मीटिंग हुई थी जिसमें डॉनल्ड ट्रंप ने कतर का भरपूर समर्थन किया था। 

मैच हारने के बाद भड़के विराट, बोले – ऐसी घटिया फिल्डिंग करके हम मैच नहीं जीत सकते

बता दें कि इन सब के पीछे अब ट्रंप सरकार का मकसद मिडिल ईस्ट के देशों में शांति लाना है। ट्रंप ईरान से निपटने, इराक और सीरिया में स्थिति बेहतर बनाने, इस्लामिक स्टेट के बचे हुए आतंकियों को हराने और यमन में गृह युद्ध को समाप्त करने के लिए लगातार कोशिशें कर रहे हैं। जिनमें काफी हद तक उन्हें सफलता भी मिलती दिख रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *