सोनू सूद की मदद से घर लौटे प्रवासी मजदूर ने घर पर ही दुकान खोला- सोनू सूद वेल्डिंग वर्कशॉप

New Delhi : बॉलीवुड एक्टर और लॉकडाउन में गरीबों के मसीहा बने सोनू सूद को आखिर कौन भूल सकता है। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान हजारों प्रवासी मजदूरों की मदद की। ऐसे लोगों की मदद भी की जो किसी कारणवश मुम्बई या किसी दूसरे शहर में फंस गये। उन्होंने स्टूडेंट्स की भी खूब मदद की।
किसी को बस से उसके घर तक भेजा तो किसी को ट्रेन से। कई मामलों में तो सोनू सूद ने हवाई जहाज के जरिये भी मजदूरों को उनके शहर तक पहुंचाया। सोनू सूद अकेले दम पर ऐसा करते रहे और पूरे देश में उनकी वाहवाही होती रही।

कई शहरों में उनकी मदद से घर लौटे प्रवासी मजदूरों और स्टूडेंट्स ने अपने अपने अंदाज में उनको थैंक्स भेजा। किसी ने उनकी पेंटिंग बनाई तो किसी ने उनके माता पिता की पेंटिंग बनाई। किसी ने अपनी मां का धन्यवाद देता वीडियो मैसेज शेयर किया। ऐसे ही एक व्यक्ति ने कुछ ऐसा किया है कि पूरे देश में उसकी चर्चा हो रही है। सोनू सूद की मदद से लॉकडाउन में केरल से ओडिशा अपने घर पहुंचे प्रशांत कुमार प्रधान ने अपनी वेल्डिंग की दुकान का नाम सोनू सूद वेल्डिंग वर्कशॉप रखा है। जिसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है।
टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रशांत सोनू सूद के द्वारा स्पेशल फ्लाइट का इंतजाम करने के बाद मई 29 को केरल से अपने घर ओडिशा पहुंच पाये थे। प्रशांत ने बताया- वह कोचि एयरपोर्ट के पास एक कपंनी में प्लम्बर थे और रोज का 700 रुपये कमाते थे। लॉकडाउन के बाद नौकरी चली गई और पैसा खत्म होने लगा। श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सीट नहीं मिल पाई। घर वापस आने की उम्मीद ही छोड़ दी। फिर सोनू सूद मसीहा की तरह मेरी जिंदगी में आये।

अब घर लौटने के बाद प्रशांत ने भुवनेश्वर से 140 किलोमीटर दूर हतीना में वेल्डिंग की दुकान खोली है। प्रशांत ने सोनू सूद से अपनी दुकान का नाम और उनकी तस्वीर का इस्तेमाल करने की परमिशन ली है। सोनू ने कहा-मैं बहुत से ब्रांड्स को एंडोर्स करता हूं लेकिन यह बहुत स्पेशल है। मेरे दिल के बेहद करीब है। सोनू ने कहा- मैं जब भी ओडिशा जाऊंगा तो प्रशांत की दुकान पर जरुर जाऊंगा। वेल्डिंग में अपना हाथ भी आजमाऊंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty five − sixteen =