जब 5-10 रुपये बिकने लगी चिकन तो 6 करोड़ की हज़ारों मुर्गियों, चूज़ों को ज़िंदा दफ’न कर दिया

New Delhi : Corona Virus से चिकन का कनेक्शन होने की अफ़वाह से  इनकी कीमतों में भारी गिरावट आई है। मंगलवार कोबेलागवी और कोलार जिले के मुर्गी पालन करने वाले किसानों ने अपने फार्म की हजारों मुर्गियों, चूज़ों को जिंदा दफन कर दिया क्योंकिइनके पालने का खर्च बहुत ज़्यादा रहा था।

न्यूज मिनटकी रिपोर्ट के मुताबिक, सोमवार को एक पोल्ट्री फार्म के मालिक नजीर अहमद मकंदर ने गोकक के नुलसोर में तकरीबन6 हजार मुर्गियों को जिंदा गड्ढे में दबा दिया। उन्होंने कहा कि पहले मुर्गियां 50 से 70 रुपये प्रति किलो बिक रही थी। लेकिन अब इनकीकीमतों में इतनी गिरावट गई है कि वे 5-10 रुपये किलों में बेची जा रही हैं। नजीर ने मुर्गियों को गड्ढे में जिंदा दफन करने का एकविडियो भी शूट किया है। अब यह विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसके साथ यह भी अफवाह फैल रही है कि इनमुर्गियों को कोराना वायरस फैलने के डर के कारण जिंदा दबा दिया गया।

 

वहीं, ‘डेक्कन क्रॉनिकलकी एक रिपोर्ट के मुताबिक, ऐसी ही घटना कोलार जिले के बांगरपेट तालुक में हुई। यहां रामचंद्र रेड्डी नाम केएक फार्म के मालिक ने 9500 चूजों को जिंदा गाड़ दिया। इस फार्म को चलाने वाले सतीश ने मुर्गियों को दफनाने के फैसले के पीछे20,000 रुपये तक के नुकसान का हवाला दिया।

कोरोना वायरस के फैलने के बाद से ऐसी अफवाहें सामने रही हैं कि चिकन खाने से भी इस वायरस के फैलने का खतरा है। ऐसा हीएक संदेश बेंगलुरु में वॉट्सऐप ग्रुप में शेयर किया जा रहा है। इसमें लिखा है, ‘हाई अलर्ट: आज बेंगलुरु में कोरोना वायरस से संक्रमितचिकन पाया गया है। कृपया इस संदेश को फैलाए और चिकन खाने से बचें। इसे अपने चाहने वालों के साथ शेयर करें।

हिंदुस्तान टाइम्सकी रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र के दहानु में भी एक पोल्ट्री किसान ने 5.8 करोड़ रुपये की कीमत के पोल्ट्री उत्पादोंको नष्ट कर दिया है, जिनमें एक दिन के 1.75 लाख पक्षी और 9 लाख हैचरी एग्स शामिल हैं। हालांकि, हेल्थ प्रोफेशनल्स ने कई बारकहा है कि यह वायरस संक्रमित लोगों से एयर ड्रॉप के जरिए फैल रहा है, या उन लोगों सेजो इससे संक्रमित हैं लेकिन उनके बीमारहोने के कोई लक्षण नजर नहीं आते। बता दें, कोरोना के कारण दुनियाभर में 4 हजार से ज्यादा लोगों की जान चली गई है। जबकि 1 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ninety four − eighty six =