कैंटीन में धोता था झूठे बर्तन- मखमली आवाज के दम पर इंडियन आइडल पहुंचा, अब पूरा देश दे रहा है शाबाशी

New Delhi : पिछले साल सोनी एंटरटेन्मेंट चैनल पर म्यूजिक के जाने-माने शो इंडियन आइडल में आए दिवस कुमार ने सबको इमोशनल कर दिया। आने वाले हर कंटेस्टेंट की तरह जब जज के रूप में बैठीं नेहा कक्कड़ ने दिवस से अपना परिचय देने को कहा तो उनकी कहानी से पूरे देश का दिल पिघल गया। झारखंड के सुदूर क्षेत्र से आए दिवस ने अपने हुनर को पहचान और मंच देने के लिए कड़ी महनत की। परिवार में पैसों की कमी के कारण उन्होंने अपना घर छोड़ केंटीन में झूठे बर्तन मांजने का काम किया। जब कुछ पैसे जुड़े तो वो पहुंच गए मुंबई इंडियन आइडल में अपना ऑडिशन देने। उन्होंने अपने परिवार में इस बारे में कुछ नहीं बताया। जब लड़का इंडियन आइडल में पहुंच गया तो दिवस के हुनर को उसके मां-बाप ने ही नहीं पूरे देश ने देखा। उनका ऐसी स्थिति में इतने बड़े मंच तक आना और पूरे देश में पहचान बनाना आज सबको प्रेरणा दे रहा है।

दिवस झारखंड के छोटे से गांव दुलमा के रहने वाले हैं। दिवस का कहना है कि उनकी रग-रग में संगीत बहता है। वो एक दो दिन बिना खाए पीए रह सकते हैं लेकिन बिना गाए उनसे नहीं रहा जाता। संगीत के प्रति उनके इसी जुनून ने एक छोटे से गांव के लड़के को एक बड़े मंच तक पहुंचाया और पूरे देश में पहचान दिलाई। दिवस ने अपने हुनर के दम पर ‘इंडियन आइडल’ के टॉप 30 में अपनी जगह बनाई। लेकिन इसके लिए दिवस ने जो मेहनत की आज हम उसी पर बात कर रहे हैं।
दिवस ने शो में आने के बाद अपना परिचय देते हुए बताया कि आज तक उसने अपने मां-बाप को भी नहीं बताया कि वो बर्तन धोने का काम करते हैं। जिस दिन वो ऑडिशन दने पहुंचे थे वो दिवाली स्पेशल था। उनसे पूछा गया कि त्यौहार वगेरह कैसे मनते हैं, इसका जवाब में दिवस ने कहा कि पिछले 6 सालों से वो इतनी मेहनत कर रहे हैं कि कोई भी त्यौहार वो नहीं मना सके। दिवस ने बताया कि जब दिवाली में बाहर पटाखे छूट रहे होते थे तो वे केंटीन में बर्तन मांजते थे। ये बताते हुए दिवस का गला भर आया था। उनकी कहानी सुन सभी जज और दर्शक इमोशनल हो गए। जज नेहा कक्कड़ ने उनका गाना सुने बिना ही उन्हें एक लाख रुपये मदद के रूप में दीए और कहा कि अपने घर आप हवाई जहाज से जाना।

इस शो में आने के बाद दिवस अपने राज्य में ही नहीं देश में भी काफी फेमस हो गए। जब वो शो में अपनी धाक जमाकर वापस झारखंड पहुंचे तो झारखंड एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद दिवस का उनके फैंस ने बहुत ही गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत किया और उनके साथ सेल्फी भी खिंचवाई। उनकी इस सफलता पर उनके मां-बाप को भी गर्व हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifty seven − 54 =