ट‍्विटर वार : कंगना ने अनुराग कश्यप को कहा- आप तो सच में बहुत मंदबुद्धि हो गये हैं

New Delhi : आखिरकार बॉलीवुड के डॉर्क फिल्मों के जानेमाने डायरेक्टर अनुराग कश्यप के सामने कंगना रनौत ने भी अपने हथियार डाल ही दिये। पिछले छह साल से नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना में आज से पहले कभी भी अनुराग कश्यप के सामने उन पर हंसते हुये किसी ने हथियार नहीं डाले थे। लेकिन आज कंगना रनौत ने कहा- चलो, अब मैं बात नहीं बढ़ाना चाहती। हार मानने के पहले कंगना रनौत ने अनुराग कश्यप को कहा कि आप तो मंदबुद्धि हो गये हैं, जब हम दोस्त थे तब तो मैं आपको बेहद होशियार मानती थी। कंगना और अनुराग कश्यप के इस ट‍्विटर वार का मजा सबने लिया।

दरअसल आग में घी डालने का काम करते हुये अनुराग कश्यप ने इस ट‍्विटर वार की शुरुआत की। कंगना ने 17 सितंबर की दोपहर में एक ट‍्वीट किया- मैं एक क्षत्राणी हूं। सर कटा सकती हूं, लेकिन सर झुका सकती नहीं! राष्ट्र के सम्मान के लिए हमेशा आवाज़ बुलंद करती रहूंगी। मान, सम्मान, स्वाभिमान के साथ जी हूं और गर्व से राष्ट्रवादी बनकर जीती रहूंगी! सिद्धांत के साथ नहीं कभी समझौता की हूं नहीं कभी करूंगी! जय हिंद ।
शाम में इस ट‍्वीट को रीट‍्वीट करते हुये अनुराग कश्यप ने लिखा- बस एक तू ही है बहन – इकलौती मणिकर्णिका । तू ना चार पाँच को ले के चढ़ जा चीन पे।देखो कितना अंदर तक घुस आए हैं । दिखा दे उनको भी कि जब तक तू है इस देश का कोई बाल भी बाँका नहीं कर सकता। तेरे घर से एक दिन का सफ़र है बस LAC का । जा शेरनी। जय हिंद ।

फिर क्या था। कंगना भी कहां रुकनेवालीं थीं। उन्होंने आव देखा न ताव और अनुराग को कहा कि तुम तो सचमुच में मंदबुद्धि हो गये हो।अनुराग कश्यप के छेड़ने का जवाब देते हुये कंगना ने ट‍्वीट किया- ठीक है मैं बॉर्डर पे जाती हूँ आप अगले अलिम्पिक्स में चले जाना, देश को गोल्ड मडेलस चाहिए हा हा हा यह सब कोई बी ग्रेड फ़िल्म नहीं है जहां कलाकार कुछ भी बन जाता है, आप तो मेटफ़ॉर्ज़ को लिटरली लेने लगे, इतने मंदबुद्धि कबसे हो गए, जब हमारी दोस्ती थी तब तो काफ़ी चतुर थे।
इस पर अनुराग कश्यप ने उनके जवाब पर ट‍्वीट किया- तेरी ज़िंदगी ही अब metaphor हो गयी है बहन।हर कही बात भी metaphor है।हर इल्ज़ाम metaphor है। इतना metaphor दे मारा है तुमने Twitter पे कि जनता,बेरोज़गारी generator को तुम्हारा dialogue राइटर कहने लग गयी है।जब की मुझसे अच्छा कोई नहीं जानता तुम कितना अच्छा improvise करती हो।

इसके बाद अपने दो ट‍्वीट के जरिये कंगना रनौत ने अपनी बात खत्म की। उन्होंने कहा कि इस यूजलेस बात का कोई अंत नहीं हो सकता। अब मैं आपसे इस मसले पर कोई बात बढ़ाने के मूड में नहीं हूं। आज का दिन खत्म हुआ। कल एक नये दिन की शुरुआत होगी। इसके बाद उन्होंने एक और ट‍्वीट किया, जिसमें कंगना ने कहा कि एक कॉमन परसेप्शन बन गया है कि मैं झगडालू हूं, जबकि यह सच नहीं है। लेकिन अगर आप मुझे छेड‍़ेंगे तो फिर मैं छोड़नेवाली भी नहीं हूं। मैं पहले कभी किसी को बेवजह नहीं छेड़ती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

88 − eighty seven =