कोरोना आपदा में भी ठग सक्रिय : पीएम फंड के नाम पर फर्जी यूपीआई आईडी से दान की ठगी

New Delhi : Corona Virus से जंग में PM Modi का साथ देने के लिए देश में पीएम केयर फंड में दान देने की होड़ लग गई है। सितारों से लेकर आम आदमी तक हर कोई इसमें दान दे रहा है। लेकिन इसके नाम पर कई फर्जी वेबसाइट भी चल रही हैं, जिनसे बचने की सरकार ने चेतावनी दी है। पीएम केयर फंड के नाम पर कई फर्जी यूपीआई आईडी से चंदा मांगा जा रहा है।
कोरोना वायरस से निपटने के ​लिए प्रधानमंत्री ने शनिवार को देश की जनता से दान करने का आह्वान किया और इसके लिए पीएम सिटीजन असिस्टेंट ऐंड रिलीफ इन इमरजेंसी सिचुएशन (PM-CARES) फंड बनाया गया है। फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार पहले सेसब्रिटी थे जथ्नहोंने इस फंड में 25 करोड़ दान का ऐलान किया। इसके बाद तो जैसे इस फंड में दान करने की होड़ लग गई है और कारोबार जगत से लेकर फिल्म इंडस्ट्री तक और सितारों से लेकर आम आदमी तक हर कोई इसमें दान कर रहा है। ऐसे में ठग भी कहां चुपचाप बैठने वाले थे। उन्होंने भी फर्जी वेबसाइट बनाकर ठगी शुरू कर दी।

लेकिन भारत सरकार के पत्र सूचना कार्यालय ने चेतावनी दी है कि पीएम केयर फंड के नाम पर कई फर्जी यूपीआई आईडी से चंदा मांगा जा रहा है। पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने ट्वीट कर बताया – पीएम केयर फंड के नाम पर प्रसारित हो रहे फर्जी यूपीआई आईडी से सावधान रहें। पीआईबी फैक्ट चेक टीम ने ट्वीट कर बताया है कि पीएम केयर फंड में डोनेट करने के लिए असली यूपीआई आईडी — pmcares@sbi है। इसके अलावा अगर आपके पास कोई लिंक या संदेश आता है, जिसमें यह आईडी नहीं है तो उसमें बिल्कुल दान न करें। वह पीएम फंड के नाम पर आपको ठगने की कोशिश है। पीएम केयर फंड में डेबिड कार्ड, क्रेडिट कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग, यूपीआई, आरटीजीएस या एनईएफटी से डोनेट किया जा सकता है और इसमें किया गया दान इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80 जी के तहत करमुक्त होता है।

इधर देश में 21 दिनों का जो लॉकडाउन चल रहा है फिलहाल उसको बढ़ाने को लेकर सरकार में कोई चर्चा नहीं चल रही है। कुछ मीडिया में ये दावा किया जा रहा था कि लॉकडाउन को बढ़ाया जा सकता है। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने आज कहा कि सरकार की लॉकडाउन बढ़ाने की कोई मंशा नहीं है। राजीव गौबा ने कहा कि इस तरह की सारी रिपोर्ट बेसलेस है। कुछ सोशल प्लैटफॉर्म और मीडिया द्वारा इस तरह का अफवाह फैलाया जा रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए 24 मार्च से 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था। ये लॉकडाउन 14 अप्रैल तक जारी रहेगा। कैबिनेट सेक्रेटरी ने कहा है कि वह इस तरह की रिपोर्ट्स देखकर हैरान हैं और सराकर का अभी ऐसा कोई भी प्लान नहीं है।
दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री Yogi Adityanath की पहल पर आज 600 करोड़ रुपये मजदूरों के अकाउंट में ट्रांसफर किये जायेंगे। इसका मूल उद‍्देश्य है मजदूरों का पलायन रोकना, क्योंकि लॉकउाडन के बावजूद पूरे उत्तर प्रदेश में मजदूरों का पलायन व्यापक पैमाने पर हो रहा है। यही नहीं उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरी सख्ती के साथ अपनी सीमाएं सील कर दी है।
लॉकडाउन का कड़ाई से अनुपालन का निर्देश सभी SP और DM को दिया गया है। आज से पूरी सख्ती होगी। किसी को नहीं बख्शा जायेगा। इधर इंदौर में संक्रमितों की संख्या अब 24 हो चुकी है। एकाएक कम्युनिटी ट्रांसमिशन का खतरा मंडराने लगा है। अब आज से इंदौर में देश का सबसे सख्त लॉकडाउन रहेगा। यहां दूध-सब्जी समेत कोई भी जरूरी सामान नहीं मिलेगा।
इंदौर में नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने शहर की सीमाओं के आसपास और चौराहों पर लिखा- लॉकडाउन और भारत बंद। शहर में 24 घंटे खुले रहने वाले पेट्रोल पंप बंद हैं। सिर्फ 7 पेट्रोल पंप खुले हैं, जो इमरजेंसी सेवाओं- एंबुलेंस, टैंकर, सरकारी वाहन को डीजल, पेट्रोल दे रहे हैं। पुलिस ने सुबह 7 बजे के बाद हर चौराहे पर नाकेबंदी कर दी है। हर आने-जाने वाले को समझाइश दी जा रही है। पुलिस का कहना था कि थोड़़ी देर समझाएंगे, नहीं मानते हैं तो केस दर्ज करेंगे।

देश में कोरोनावायरस के चलते हालात बिगड़ते जा रहे हैं। पश्चिम बंगाल में कोरोना से संक्रमित 54 वर्षीय महिला की रविवार रात 2 बजे मौत हो गई। यह राज्य में कोरोना संक्रमण से दूसरी मौत है। महिला दार्जीलिंग जिले के कलिमपोंग की रहने वाली थी। वह हाल ही में बेटी का इलाज करवा कर चेन्नई से लौटी थी। इसके बाद उसे कोरोना पॉजिटिव पाया गया। उसे नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया था।

इससे पहले रविवार को 5 संक्रमितों की मौत हुई थी। मुंबई में 40 साल की महिला की जान गई थी। वह हाईपरटेंशन की मरीज भी थी। इसके अलावा राज्य के बुलढाणा में भी 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत संक्रमण के चलते हुई थी। इन्हें पहले निमोनिया की शिकायत बताई गई थी। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirty five − = twenty seven