नदी के अंदर बना हुआ है माता का ये मंदिर…यहां तेल नहीं नदी के पानी से जलता है मंदिर का दीया

New Delhi : दुनिया में कई मंदिर हैं जो अपने चमत्कारो के चलते पूरी दुनिया में फेमस हैं। हम जानते हैं कि हमारा देश आस्था का देश है और इसके चलते मंदिरों में भीड़ लगी रहती है। आज आप को एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे है जिसमें रोज चमत्कार होता है। जिसको देखने के लिए लोगों का तांता लगा रहता है। कहते हैं कि साईं बाबा ने घी नहीं होने पर पानी से दीपक जलाए थे। लेकिन आज हम आपको ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो रहस्य के लिए जाना जाता है।

जानकारी के लिए बता दें कि माता के इस मंदिर में दीपक जलाने के लिए घी की जरूरत नहीं होती है बल्कि मंदिर में पानी से ही दीपक जलता है। ये आज से कई सैकड़ों सालों से होता आ रहा है। जानकारी के लिए बता दें कि हम बात कर रहे है मध्य प्रदेश से शाहाजापुर जिले में स्थित गड़ियाघाट वाली माताजी के नाम से फेमस मंदिर की जो कालीसिंध नदी के किनारे आगरा मालवा के नलखेड़ा गांव से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कहा जाता है कि इस मंदिर में पिछले कई साल से एक दीपक जल रहा है।
मंदिर के पुजारी ने बताया है कि ये जोत किसी भी तरह के ईधन से नहीं जल रही है बल्कि पानी से जल रही है। मंदिर के बारे में पुजारी सिद्धूसिंह बताते हैं कि पहले यहां हमेशा तेल का दीपक जला करता था, लेकिन करीब पांच साल पहले उन्हें माता ने सपने में दर्शन देकर पानी से दीपक जलाने के लिए कहा। मां के आदेश के अनुसार पुजारी ने वैसा ही किया।माता के आदेश के अनुसार पुजारी ने कालीसिंद नदी से पानी भरा औऱ दीपक में डाला। जब उसको जलाने की कोशिश की गई तो वो जल गया।
जब ये चमत्कार हुई तो पुजारी घबरा गया औऱ कुछ महीनों तक किसी को भी कुछ नहीं बताया। महीनों बाद पुजारी ने गांव के लोगों को इस बारे में बताया। पहले तो किसी ने भी विश्वास नहीं किया लेकिन जब दीपक में पानी डालकर जोत जलाई गई तो सब हैरान रह गए।

One thought on “नदी के अंदर बना हुआ है माता का ये मंदिर…यहां तेल नहीं नदी के पानी से जलता है मंदिर का दीया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty seven − twenty =