निजामुद्दीन मरकज से बाहर निकलते अनुयायी

दिल्ली में कोरोना के 93 नये केस, सभी निजामुदृीन मरकज के, क्वारैंटाइन सेंटर में रह रहे थे

New Delhi : दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। दिल्ली में कोरोना के मरीजों की संख्या अब 669 हो गई है। इनमें 426 मरकज़ से जुड़े लोग शामिल हैं। पिछले 24 घंटों में दिल्ली में 93 नए मामले सामने आए हैं जो सभी मरकज़ के हैं। यह सभी 93 मामले क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखे गए मरकज के लोगों के हैं, जबकि अभी तक अस्पताल में भर्ती मरकज़ के लोगों के आंकड़े सामने आ रहे थे।

मरकज को खाली करते लोग

निजामुद्दीन मरकज इलाके से 2346 लोगों को निकाला गया था इनमें से 536 अस्पताल में भर्ती किए गए थे, जबकि 1810 क्वारन्टीन सेंटर में रखे गए थे। अस्पताल में भर्ती किए लोगों में से 333 लोग पॉजिटिव हुए थे, जिससे ऐसा लगा था कि आंकड़ा अब थम गया है, लेकिन अब क्वारंटीन में रखे लोगों के कोरोना से संक्रमित होने से आंकड़ा तेज़ी से बढ़ना शुरू हो गया है।
इससे पहले राष्ट्रीय राजधानी में कोरोनावायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने घर से बाहर निकलने पर लोगों को मास्क पहनना बुधवार को अनिवार्य कर दिया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद इस निर्णय का ऐलान करते हुये कहा कि चेहरे पर मास्क लगाने से काफी हद तक कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को कम किया जा सकता है। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ​ट्वीट कर कहा – इसलिये यह फैसला किया गया है कि राष्ट्रीय राजधानी में घर से बाहर कदम रखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिये मास्क पहनना आवश्यक होगा. कपड़े का मास्क भी उपयोग में लाया जा सकता है।
केजरीवाल ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि दिल्ली के सभी सरकारी विभागों को वेतन के अलावा सभी खर्च रोकने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि राजस्व की वर्तमान स्थिति को देखते हुए सरकार को अपने ख़र्चों में भारी कटौती करनी होगी। ट्वीट में कहा गया है कि कोरोना और लॉकडाउन सम्बन्धी ख़र्चों के अलावा कोई अन्य खर्च केवल वित्त विभाग की अनुमति से ही किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ twenty eight = thirty one