गुरुद्वारा कमेटी ने 550 बेड के दो हॉस्पिटल दिल्ली सरकार को दिये क्वारैंटाइन सेंटर और कोरोना के लिये

New Delhi : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी कोरोना वायरस आपदा के बीच सरकार की मदद के लिए आगे आई है। कमेटी ने 50 बिस्तरों वाले गुरु हरकृष्णा हॉस्पिटल और छह मंजिला 500 बिस्तर का एक अन्य अस्पताल मरीजों के इलाज के लिए दिल्ली सरकार को सौंप दिया है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने गुरुवार को कहा कि डीएसजीएमसी अपने 50 बिस्तर वाले गुरु हरकिशन अस्पताल और 6 मंजिला 500 बेड वाले गुरुद्वारा बाला साहिब अस्पताल भवन को कोरोना पॉजिटिव या संदिग्ध मरीजों के इलाज या आइसोलेट करने के लिए दिल्ली की केजरीवाल सरकार को सौंप दिया है।

हॉस्पिटल भवन जो सरकार को सौंपा गया है


ओडिशा में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लॉकडाउन 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। ओडिशा ऐसा करने वाला पहला राज्य है। पटनायक ने मोदी सरकार से अनुरोध किया है कि 30 अप्रैल तक राज्य में ट्रेनों और विमानों का संचालन न किया जाए। ओडिशा ऐसा करने वाला पहला राज्य है। अब तक पांच राज्यों ने लॉकडाउन बढ़ाने की बात कही थी, लेकिन इस पर अभी तक अमल नहीं हुआ। ओडिशा में स्कूल-कॉलेज 17 जून तक बंद रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए देशभर में 25 मार्च से 14 अप्रैल तक के लिए 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की थी। मंत्रीसमूह की उच्च स्तरीय बैठक में भी इसे बढ़ाने पर कोई फैसला नहीं हुआ है।
इधर केंद्र सरकार ने मंत्रिसमूह को देश में कोरोनावायरस महामारी के कारण पैदा हालात की निगरानी के बाद प्रधानमंत्री को सिफारिशें भेजने का जिम्मा सौंपा गया है। पिछली बैठक में मंत्री इस निष्कर्ष पर पहुंचे थे कि धार्मिक केंद्र, मॉल और शैक्षणिक संस्थानों को 14 अप्रैल के बाद 4 सप्ताह तक सामान्य तरीके से कामकाज शुरू नहीं करने देना चाहिए। साथ ही, धार्मिक केंद्रों और मॉल जैसे सार्वजनिक स्थानों पर ड्रोन से भीड़ की निगरानी की जानी चाहिए। मई से गर्मी की छुट्टियां शुरू होने के चलते ज्यादातर स्कूल-कॉलेज जून अंत तक बंद ही रहेंगे।
दूसरी ओर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सूबे में कोरोना के बढ़ते मरीजों पर चिंता व्यक्त की और कहा – प्रदेश में कई जगह सिर्फ तब्लीगी जमातियों के कारण संक्रमण फैला। उनकी पहचान करने और अस्पताल पहुंचाने में ही स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी और पुलिसकर्मी कोरोना की चपेट में आए। अब भी कुछ जमाती इधर-उधर छिपे हैं। शरारती तत्वों को बख्शा नहीं जाएगा। इधर मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 403 हो चुकी है। भोपाल और इंदौर के बाद अब कोरोना छोटे शहरों में पैर पसार रहा है। दो दिनों में छोटे शहरों में करीब 24 केस सामने आये हैं। आशंका है कि इन शहरों में सैंपल जांच का दायरा बढ़ने पर नये मरीज सामने आएंगे। छोटे शहरों में अभी जो संक्रमित मरीज मिले हैं, वे बीते 15 दिन में जमातियों के संपर्क में आये थे। यानी जमातियों ने यहां वायरस के करियर का काम किया। एम्स भोपाल के रेसीडेंट डॉक्टर एसोसिएशन ने संस्थान के डायरेक्टर को पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि कुछ डॉक्टर्स के साथ के साथ कुछ पुलिसवालों ने मारपीट ओर बदसलूकी की है।

दिल्ली सरकार को कमटी द्वारा लिखी गई चिट‍्ठी


कोरोनावायरस संक्रमण के मरीजों की संख्या 6 हजार 245 हो गई है। आज 319 रिपोर्ट पॉजिटिव आईं। इनमें से गुजरात में 55, राजस्थान में 30, उत्तरप्रदेश में 19, मध्यप्रदेश में 14 और बिहार में 11 मरीज बढ़े। इनके अलावा कर्नाटक में 10, झारखंड में 9, पंजाब में 8, मध्यप्रदेश में 5, पश्चिम बंगाल में 4, ओडिशा में 2, जबकि हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और छत्तीसगढ़ में 1-1 मामले सामने आए हैं। ये आंकड़े covid19india.org वेबसाइट के मुताबिक हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार सुबह बताया कि देश में कुल संक्रमितों की संख्या 5 हजार 734 हो गई है। इनमें से 472 मरीज ठीक हुए हैं। मुंबई में बुधवार को लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 464 मामले दर्ज किये गये। 20 मार्च से अब तक 3 हजार 634 केस दर्ज किए जा चुके हैं। कल तक 2 हजार 850 लोगों को गिरफ्तार किया गया और जमानत पर रिहा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighty nine − = eighty seven