तेलंगाना सरकार का फैसला : कोरोना से पीड़ित मुस्लिम मरीजों को खाने में दी जायेगी मटन बिरयानी

New Delhi : तेलंगाना में  COVID-19 मुस्लिम मरीजों को बिरयानी दी जायेगी। इसके लिये राज्य सरकार ने पौष्टिक भोजन सुनिश्चित कराने के लिए अस्पतालों को निर्देश दिये हैं। सरकार ने इस मामले को लेकर हैदराबाद के गांधी अस्पताल को विशेष निर्देश दिये हैं। तेलंगाना में गांधी अस्पताल कोविड-19 के मरीजों का नोडल केंद्र है। अस्पताल को मुस्लिम मरीजों को सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद पौष्टिक और संतुलित भोजन देने के लिए कहा गया है।

तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री हॉस्पिटल में उपलब्ध संसाधनों और व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुये।

रमजान के दौरान मुस्लिम दिन में पानी तक नहीं पीते हैं। सरकार ने कहा है कि यह उनका पवित्र महीना होता है इसलिए मरीजों में भी रोजा रखने की इच्छा होगी।एक अस्थायी मेन्यू के अनुसार रोजा रखने वाले मरीजों को रमजान के महीने के दौरान सुबह 3.30 बजे ब्रेड, चावल, दाल और सब्जी दी जाएगी। साथ ही वैकल्पिक दिनों में चिकन और मटन भी उपलब्ध कराया जाएगा। रोजा तोड़ने के लिए उन्हें टमाटर की चटनी और चिकन फ्राई के साथ चावल या सब्जी बिरयानी परोसी जाएगी।

हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मरीजों को वैकल्पिक दिनों में चिकन बिरयानी, सादा चावल, सब्जी, दाल और अंडे दिए जाएंगे। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा – मेन्यू को यह सुनिश्चित करने के लिहाज से बनाया गया है कि उपवास करने वाले मुस्लिम रोगियों को अपनी रोग-प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने के लिए प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट मिलते रहें जो कोरोना से खिलाफ लड़ने के लिए आवश्यक ऊर्जा प्रदान करेंगे।

क्वारैंटाइन में सार्वजनिक भोजन की प्रतीकात्मक तस्वीर

अस्पताल कोरोना के अन्य मरीजों को भी स्वस्थ आहार उपलब्ध करा रहा है। जिसमें इडली, ब्रेड और जैम, चावल, सांभर और दही शामिल है। मांसाहारियों को दिन में एक बार अंडे और चिकन करी दी जाएगी। सभी मरीजों को ड्राई फ्रूट्स जैसे कि बादाम, काजू और खजूर दिए जाएंगे। इसके अलावा उन्हें रोग-प्रतिरोधक क्षमता और त्वरित ऊर्जा बढ़ाने के लिए संतरा, नींबू और केले भी दिये जायेंगे। सभी मरीजों को बोतलबंद पानी मुहैया कराया जाएगा। चाय के साथ दिन में दो बार बिस्कुट दिया जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री इटाला राजेंद्र ने कहा कि सभी मरीजों को साफ-सुथरे पैकेट में खाना दिया जाएगा। उन्होंने कहा – हम मरीजों को फ्री वाई-फाई दे रहे हैं और उन्हें अपने मोबाइल का इस्तेमाल करने की इजाजत है ताकि वह अपने परिवार के संपर्क में रह सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− one = 1