मंदिर परिसर में सरेंडर किया, मीडिया को देखते ही चिल्लाया- मैं विकास दुबे कनपुरिया हूं

New Delhi : कानुपर के गैंगस्‍टर विकास दुबे आखिरकार पकड़ा गया। वह मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया गया है। विकास दुबे ने खुद ही स्थानीय मीडिया और पुलिस के सामने सरेंडर किया। पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद भी विकास पर कोई असर नहीं दिखा और मीडिया के सामने चिल्लाया- मैं विकास दुबे हूं कानपुरिया। पकड़े जाने के बाद भी विकास दुबे के चेहरे पर कोई डर या शिकन नजर नहीं आ रही थी। वह उसी हेकड़ी से तनकर गाड़ी तक पहुंचा।

गाड़ी के पास आकर जब पुलिस ने उसे पकड़कर अंदर बैठाने का प्रयास किया तो विकास दुबे जोर से चिल्लाया, ‘मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला….’ उसके इतना बोलते ही हेकड़ी कम करने के लिये पीछे खड़े एक पुलिसवाले ने उसे एक थप्पड़ मारा।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके लिए उज्जैन पुलिस को बधाई दी है। साथ ही उन्होंने कहा कि जिनको लगता है कि महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धूल जायेंगे, उन्होंने महाकाल को जाना ही नहीं। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा – हमारी सरकार किसी भी अपराधी को बख़्शने वाली नहीं है। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी बात की है। मध्य प्रदेश पुलिस जल्द ही उसे उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंपेगी। वहीं, मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने – कहा वारदात होने के बाद से ही हमने पूरी मप्र पुलिस को अलर्ट पर रखा था।

इधर समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने इस गिरफ्तारी पर कहा है- सरकार स्पष्ट करे कि ये गिरफ्तारी है या आत्म समर्पण। विकास दुबे के फोन का सीडीआर जारी करे जिससे स्पष्ट हो सके कि वास्तव में हुआ क्या है? इसमें सबकुछ सामान्य नहीं है।
अखिलेश प्रसाद ने इस मसले पर ट्वीट किया- ख़बर आ रही है कि ‘कानपुर-काण्ड’ का मुख्य अपराधी पुलिस की हिरासत में है। अगर ये सच है तो सरकार साफ़ करे कि ये आत्मसमर्पण है या गिरफ़्तारी। साथ ही उसके मोबाइल की CDR सार्वजनिक करे जिससे सच्ची मिलीभगत का भंडाफोड़ हो सके।

बता दें कि गुरूवार दो जुलाई की रात 12 बजे शिवराजपुर, बिल्हौर, चौबेपुर, शिवली थाने के 35 पुलिसकर्मियों ने चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरु गांव निवासी कुख्यात अपराधी विकास दुबे के घर दबिश दी थी। फिर इसमें आठ पुलिसवालों की जान लेने के बाद वो फरार हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ 85 = ninety two