सहवाग ने बीसीसीआई के सामने रखी थी ये शर्त, इसलिए कट गया पत्ता

सहवाग ने बीसीसीआई के सामने रखी थी ये शर्त, इसलिए कट गया पत्ता

By: Varsha
July 17, 19:07
0
NEW DELHI: हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद रवि शास्त्री को भारतीय टीम का नया कोच चुन लिया गया है। रवि शास्त्री विश्वकप-2019 तक के लिए भारतीय क्रिकेट टीम के कोच बन चुके हैं। लेकिन एक सवाल अब भी क्रिकेट फैन्स के जे़हन में है।

वीरेंद्र सहवाग कहां चूक गए? कोच पद के लिए पूर्व तूफानी सलामी बल्लेबाज भी दौड़ में थे। फिर आखिर वो कहां पिछड़ गए?दरअसल वीरेंद्र सहवाग ने कोच बनने से पहले कुछ ऐसी शर्तें बीसीसीआई के सामने रख दीं, जो बोर्ड को मंजूर नहीं थीं। बस इसी बात ने उनकी दावेदारी हल्की कर दी।

वीरू की इन शर्तों में से एक थी मनपसंद सपोर्ट स्टाफ चुनना। लेकिन बोर्ड ने साफ कह दिया कि कोच के चाहने भर से सपोर्ट स्टाफ की नियुक्ति नहीं की जा सकती। वीरेंद्र सहवाग इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब टीम के साथ मेंटर के तौर पर जुड़े रहे हैं। एक अंग्रेजी अखबार की मानें तो इस पद पर रहने के बाद उन्हें भरोसा था कि उनमें भारतीय टीम का कोच बनने की भी योग्यता है।

लेकिन साथ ही वीरू ये भी चाहते थे कि कोच बनने पर उन्हें मनपसंद सपोर्ट स्टाफ रखने का भी मौका दिया जाए। सहवाग चाहते थे कि अमित त्यागी को बतौर फिजियोथेरेपिस्ट और मिथुन मिन्हास को बतौर सहायक कोच भारतीय टीम के साथ जुड़ने का मौका मिले। लेकिन बोर्ड का रुख साफ था कि इस तरह की कोई निश्चित सुविधा नहीं दी जा सकती।

इसी शर्त ने सहवाग की दावेदारी कमजोर कर दी। चर्चा है कि वीरेंद्र सहवाग ने कोच पद के लिए इंटरव्यू से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली से भी मुलाकात की थी। विराट को भी वीरू के कोच बनने से कोई समस्या नहीं थी, लेकिन सहवाग की सपोर्ट स्टाफ की मांग ने उनका पलड़ा हल्का कर दिया।

 .

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।