दुनिया का सबसे महान गेंदबाज जिसके सपने में आते थे सचिन, मैदान के बाहर था विवादों से गहरा नाता

दुनिया का सबसे महान गेंदबाज जिसके सपने में आते थे सचिन, मैदान के बाहर था विवादों से गहरा नाता

By: Adill Malik
September 12, 18:09
0
.

NEW DELHI : 

क्रिकेट के इतिहास दिग्गज स्पिनरों की बात होती है तो सबसे पहले सबके दिमाग में एक ही नाम आता है और वो हैं ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर शेन वार्न। 

वार्न ने अपने करियर में कई असाधारण कारनामें करके क्रिकेट के ऐतिहासिक पलों में अपने नाम को शुमार कर लिया था। शेन वार्न मैदान ही नहीं बल्कि मैदान के बाहर भी उतनी ही चर्चाओं में रहते थे, आइए जानते है उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ खास लम्हे :-

शेन वार्न का जन्म 13 सितंबर 1969 को फ़ेर्नट्री गॅली, विक्टोरिया में हुआ था। वार्न वर्ल्ड क्रिकेट में ऐसे केवल दूसरे गेंदबाज हैं जिन्होंने टेस्ट और वनडे मैचों को मिलाकर 1000 विकेटों के आकड़े को छुआ है। पहला नंबर मुथैया मुरलीधरन का आता है जिन्होंने यह कारनामा किया है। शेन वार्न ने अपना पहला टेस्ट मैच 1992 में भारतीय टीम के खिलाफ खेला था और अपना पहला वनडे मैच 1993 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था। शेन वार्न को उनके शानदार स्पिन गेंदबाजी के कारण क्रिकेट प्रेमी वार्न को "स्पिन के सुल्तान" जैसे उपनामों से पुकारते थे।

शेन वार्न ने टेस्ट क्रिकेट में 145 मैच खेलकर 708 विकेट चटकाए हैं जिनमें सर्वश्रेष्ठ परफॉर्मेंस 8 विकेट 71 रन देकर है। शेन वार्न ने वनडे क्रिकेट में 194 मैच में 293 विकेट चटकाए हैं। शेन वार्न वर्ल्ड क्रिकेट के अकेले ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने किसी एक देश के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में 100 या 100 से ज्यादा विकेट चटकाए हैं। शेन वार्न ने टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला शिकार भारत के रवि शास्त्री को बनाया था। 1993 के एशेज सीरीज में शेन वार्न ने इंग्लैंड बल्लेबाज माइक गट्टिंग को क्लीन बोल्ड कर एक इतिहास बनाया था। जिस गेंद पर  माइक गट्टिंग आउट हुए थे उस गेंद को “बॉल ऑफ द सेंचुरी” के नाम से जाना जाता है।

शेन वार्न 1999 में ऑस्ट्रेलियाई टीम के उप कप्तान बने थे। लेकिन वार्न कभी भी ऑस्ट्रेलियाई टीम की कप्तानी नहीं कर पाए थे। फरवरी 2003 में शेन वार्न को ड्रग टेस्ट में पॉजीटीव पाया गया जिसके कारण वार्न को 1 साल के लिए क्रिकेट खेलने पर पाबंदी लगा दिया गया था। यही कारण था कि शेन वार्न 2003 का वर्ल्ड कप नहीं खेल पाए थे। 21 दिसंबर 2006 को शेन वार्न ने क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। टेस्ट क्रिकेट में 700 विकेट चटकाने का कारनामा करने वाले वार्न वर्ल्ड क्रिकेट में पहले क्रिकेटर बने थे। 1994 में शेन वार्न को विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर के खिताब से नवाजा गया था।

1997 में शेन वार्न को विजडन ने लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर के खिताब से नवाजा था। तो साथ ही 2000 में शेन वार्न को विजडन क्रिकेटर ऑफ द सेंचुरी में शामिल किया गया था। उन्हें सन् 2000 में पूरी सदी के बेहतरीन पाँच विजडन क्रिकेटरों में से एक के रूप में भी चुना गया। अपनी गेंदबाजी से शेन वार्न ने सभी देशों के बल्लेबाजों के खिलाफ काफी उम्दा गेंदबाजी करी थी लेकिन भारत के सचिन तेंदुलकर के खिलाफ शेन वार्न की गेंदबाजी फीकी पड़ जाती थी। वार्न ने एक बार अपने दिए किसी इंटरव्यूह में कहा था कि सचिन तेंदुलकर उनके सपने में मेरे बॉल पर सर के ऊपर से छक्के लगाते हुए नजर आते हैं।

जब सेक्स स्कैंडल में फंसे शेन वॉर्न :-

वॉर्न अपने क्रिकेट करियर से भी ज्यादा महिलाओं के साथ संबंध और सेक्स स्कैंडल्स की वजह से सुर्खियों में रहे। वॉर्न पर कई महिलाओं ने छेड़छाड़ और अश्लीलता करने के आरोप भी लगाए। साल 2002 में वार्न पर ब्रिटिश नर्स ने आरोप लगाया था कि ऑस्ट्रेलियन स्पिनर ने उनसे संबंध बनाने के लिए दबाव बनाया।  नर्स डोना राइट ने खुलासा किया था कि वॉर्न उन्हें गंदे वॉइस मैसेज भेजते और फोन पर भी अश्लील बातें करते थे। इस मामले के सामने आने के बाद वार्न ने किसी तरह की कोई सफाई नहीं दी और इन्हें ऑस्ट्रेलिया के उपकप्तान पद से हटा दिया गया। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments
No Comments